चीन पर अल्पसंख्यक कैदियों के दिल, किडनी और लिवर निकालने का आरोप, मानवाधिकार परिषद ने उठाए सवाल

Advertisements

चीन में अल्पसंख्यक कैदियों के दिल, किडनी और लिवर निकालने की खबरें सामने आने के बाद से हंगामा मच गया है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिका परिषद के सदस्यों ने इस क्रूरता के खिलाफ पुरजोर तरीके से आवाज उठाई है। दरअसल कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि चीन की कैद में जकड़े उइगर मुस्लमान, तिब्बती, मुस्लिम और क्रिश्चनों के साथ ऐसी क्रूरता की जा रही है। यूनाइटेड नेशन हाई कमिश्नर फॉर ह्यूमन राइट्स (OHCHR), कार्यालय की तरफ से एक बयान जारी कर कहा गया है कि ‘हमें जानकारी मिली है कि धार्मिक अल्पसंख्यकों को जबरन खून की जांच कराने और अंगों के परीक्षण मसलन – एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड कराने के लिए मजबूर किया जा रहा है। जबकि अन्य कैदियों से ऐसा नहीं कहा जा रहा है।’

इसे भी पढ़ें-  J&k: देशद्रोहियों और पत्थरबाजों पर सरकार का बड़ा एक्शन, अब न सरकारी नौकरी मिलेगी, न विदेश जाने की मंजूरी

यूएन मानवाधिकार आयोग के मुताबिक चीन में जबरन अंग निकालने की यह घटना खासकर उनलोगों के साथ हो रही है जो वहां अल्पसंख्यक हैं और चीन की कैद में हैं। इन कैदियों को यह भी नहीं पता कि उन्हें क्यों कैद किया गया है और ना ही उन्हें अरेस्ट वारंट दिखाया गया था। विशेषज्ञों ने कहा है कि ‘कैदियों के साथ ऐसी क्रूरता के मामले को लेकर हम काफी गंभीर हैं। विशेषज्ञों के कहना है कि यहां ज्यादातर कैदियों के दिल, किडनी, लीवर समेत शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंग निकाले जा रहे हैं। इसमें स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े प्रोफेशनल्स मसलन- सर्जन और अन्य मेडिकल स्पेशलिस्ट शामिल हैं।’

Advertisements