आ रहा गूगल का हेल्थ टूल: बतौर परामर्शदाता करेगा काम, स्किन व टीबी मरीजों की करेगा मदद 

Advertisements

आर्टिफिशिल इंटेलिजेंस-2011 यानी आईओ-2021 कार्यक्रम में गूगल ने अनेक नए उत्पाद पेश किए हैं। इन्हीं में से एक है हेल्थ टूल। यह त्वचा व टीबी रोगों के लिए खास तौर से परामर्श सेवाएं देगा। आप अपने स्मार्टफोन की मदद से अपने त्वचा रोग की पहचान कर सकेंगे।

रोग की पहचान में ऐसे करेगा काम
यह टूल घर बैठे ही त्वचा से जुड़े तमाम रोगों की पहचान के अलावा उनके उपचार कैसे बेहतर हो सकता है, यह बताएगा। आपके सवालों के जवाब भी देगा। इसमें आपको अपने स्मार्टफोन के कैमरे से त्वचा के उस हिस्से पर फोकस करना पड़ेगा। इसके बाद यह त्वचा के उस हिस्से के अलग-अलग तरह से फोटो लेगा।

इसे भी पढ़ें-  गांवों में नहीं चलेगी प्रधान व सचिवों की मनमानी, बनाया जा रहा मजबूत तंत्र; गाइडलाइन जारी

फोटो लेने के बाद हेल्थ टूल कुछ सवाल पूछेगा। यह समस्या कब से है, इससे क्या-क्या तकलीफें होती हैं, जैसे खुजली चलना, सूजन आना, जलन होना जैसे लक्षणों के बारे में पूछेगा। इन सवालों के आप जो जवाब देंगे उनका यह टूल विश्लेषण करेगा।

288 तरह की समस्याओं की पहचान होगी
दरअसल गूगल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी आई के जरिए हेल्थ टूल लांच करेगा। इसमें 288 तरह के त्वचा रोगों के विश्लेषण की क्षमता है। आप जो फोटो व जानकारी उसे देंगे, उसके आधार पर वह आपको बताएगा कि आपमें कौनसे त्वचा रोग की आशंका है।

टीबी मरीजों की इस तरह करेगा मदद
गूगल त्वचा रोग के अलावा टीबी यानी क्षय रोग की जांच के लिए भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित टूल बनाने जा रहा है। इसमें क्षय रोग की सस्ते में जांच, छाती के एक्सरे व उसके विश्लेषण जैसी व्यवस्थाएं होगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसके उपयोग की सिफारिश की है। इसके जरिए क्षय रोग का जल्दी पता लगाने, उपचार में मदद करने व बीमारी को खत्म करने में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid In Police Thana TI: थाना परिसर में रिश्वत ले रहे टीआई को लोकायुक्त की टीम ने दबोचा

मददगार होगा टूल, इलाज नहीं करेगा
गूगल ने स्पष्ट किया है कि ये टूल मददगार की भूमिका में होंगे। इनका उद्देश्य बीमारी की जांच करना या इलाज के लिए खुद सलाह देना नहीं है। यह बीमारी की पहचान व उसके बारे में सूचनाएं दे सकता है। खुद इलाज या चिकित्सा सहायता नहीं करेगा। किसी रोग के इलाज के लिए डॉक्टरी परीक्षण, लैब में टेस्ट, बायप्सी व अन्य पैथालॉजिकल परीक्षण जरूरी होते हैं। ये टूल इन सब बातों को आपकी पहुंच में लाने में मदद करेगा। इसके आधार पर आप भावी इलाज की रूपरेखा तय कर निर्णय कर सकेंगे।

यूरोपीय संघ ने दी टूल को मान्यता
गूगल के इस हेल्थ टूल को यूरोपीय संघ ने प्रथम श्रेणी की चिकित्सा सेवा के रूप में मान्यता दी है। गूगल इस टूल को इसी साल के अंत तक लांच करने की तैयारी कर रहा है।

Advertisements