MP Board 10th Exam Result 2021: एमपी बोर्ड 10वीं को लेकर बड़ी खबर, मूल्यांकन के लिए तलाश रहे विकल्प

Advertisements

भोपाल MP Board 10th Exam Result 2021। माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं की परीक्षा नहीं ली जाएगी। इस संबंध में स्कूल शिक्षा मंत्री कई बार बयान दे चुके हैं। मंत्री ने स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों को दसवीं परीक्षा के मूल्यांकन के लिए विकल्प तय करने की जिम्मेदारी दी है। वहीं मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं-बारहवीं की बोर्ड परीक्षा एक महीने टालने के बाद अब प्रायोगिक परीक्षा भी स्थगित कर दी गई है। यह परीक्षाएं बीस मई तक होना थी। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा मंडल ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिए थे। वहीं स्कूल शिक्षा विभाग ने माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं और और बारहवीं की परीक्षा को एक महीने के लिए टालने का फैसला किया था। इसमें प्रदेश भर से करीब 19 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे। वहीं मंडल की दसवीं बोर्ड की परीक्षा पर असमंजस बरकरार है।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना टीकाकरण में टॉप पर रहा मध्य प्रदेश, एक दिन में 15 लाख लोगों को दी वैक्सीन

हालांकि दसवीं बोर्ड के छात्रों की परीक्षा निरस्त किए जाने की संभावना है, लेकिन विभाग पास करने के स्वरूप पर विभाग अभी तक कोई निर्णय नहीं ले पाया है। अब सिर्फ बारहवीं की परीक्षा होगी। दसवीं के विद्यार्थियों को एमपी बोर्ड द्वारा सीबीएसई की तर्ज पर जनरल प्रमोशन नहीं दिया जाएगा। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार पहले भी स्पष्ट कर कर चुके हैं कि दसवीं के विद्यार्थियों के मूल्यांकन के लिए मापदंड पर विचार किया जा रहा है। अधिकारियों का मानना है कि नियमित विद्यार्थियों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर नंबर दे दिए जाएंगे, जबकि निजी विद्यार्थियों की परीक्षा करा ली जाए। इस पर हल नहीं निकलने पर सभी छात्रों को जनरल प्रमोशन देने का विकल्प भी खुला हुआ है।

इसे भी पढ़ें-  ज्योतिरादित्य सिंधिया की सुरक्षा में चूक, 8 किलोमीटर तक दूसरी गाड़ी को करते रहे कवर, 14 पुलिसकर्मी सस्पेंड

बंगाल चुनाव से लौटे सचिव अब लेंगे निर्णय

मंडल के सचिव उमेश कुमार सिंह की ड्यूटी बंगाल चुनाव में लगाई गई थी। वहां से लौट आए हैं। अब मंडल की दसवीं की परीक्षा को लेकर निर्णय करेंगे।

मंडल की दसवीं की परीक्षा नहीं ली जाएगी। रिजल्ट किस आधार पर तैयार होगा। इसके लिए मंडल के अधिकारियों को विकल्प पर विचार करने के लिए कहा है। – इंदर सिंह परमार, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री

Advertisements