WFH कल्चर ने बढ़ाई जरूरत? अब बंपर भर्ती करेंगी TCS, विप्रो जैसी कंपनियां

Advertisements

भारत की शीर्ष पांच आईटी कंपनियां प्रतिभा की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए इस साल बड़ी संख्या में बंपर भर्तियां करने जा रही हैं। ज्यादातर कंपनियां अपने काम को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लाना चाहती है जिसके कारण आईटी सेक्टर में अच्छे टैलेंट की मांग बढ़ी है। टीसीएस कैंपस से करीब 40000 भर्तियां करेगा। वहीं, इंफोसिस कैंपस से 25000 भर्तियां करेगा।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक विप्रो ने यह नहीं बताया कि वह कितनी भर्ती करेगा लेकिन यह कहा कि वह  पिछले से अधिक भर्तियां करेगा।

देश में कोरोना के बढ़ते मामले और लॉकडाउन के बीच कंपनियां वर्क फ्रॉम होम के कल्चर पर अधिक फोकस कर रही हैं, जिसके कारण डिमांड बहुत तेजी से बढ़ी है। ज्यादातर कंपनियां और क्लाइंट अपने कारोबार को ऑनलाइन या डिजिटल प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  Covid Treatment: भारत में ‘एंटीबॉडी कॉकटेल’ से होगा कोरोना मरीजों का इलाज, इमरजेंसी इस्तेमाल की मिली मंजूरी

एनालिस्ट के मुताबिक टीसीएस, विप्रो, इंफोसिस, एचसीएल और टेक महिंद्रा इस साल 1,10,000 से अधिक भर्तियां करेंगी, जो बीते साल की 90000 भर्तियों से अधिक है।

नए वित्त वर्ष की शुरुआत उच्च नियोजित परिश्रम, नए सिरे से काम पर रखने की योजना, पेंट-अप मांग जारी है। हायरिंग बीते साल से 20 फीसदी अधिक होगी। शीर्ष पांच आउटसोर्सरों ने पिछले साल कुल 2.10 लाख भर्तियां की थी क्योंकि अटैचमेंट-लिंक्ड रिप्लेसमेंट हायरिंग 1.20 लाख से अधिक थी।

जबकि TCS ने पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में 7.2% की रिकॉर्ड कम अट्रैक्शन रेट दर्ज की थी, वहीं इन्फोसिस और विप्रो के लिए अट्रैक्शन रेट्स में तेजी आई।

Advertisements