उपभोक्ता भी नहीं दे रहे अनुमति : मीटर रीडिंग करने वाले संक्रमण को देखते हुए फिलहाल रीडिंग का काम करने से कतरा रहे हैं। घर-घर जाकर दरवाजे और मीटर रीडिंग चेक करना जोखिम भरा है। ऐसे में परिसर के बाहर लगे मीटर की दूर से रीडिंग ली जा रही है। कई उपभोक्ता भी सुरक्षा की दृष्टि से प्रवेश नहीं करने दे रहे हैं।

20 हजार दुकानों के मीटर अंदर : कई दुकानदारों के मीटर परिसर के बाहर हैं जिनकी मीटर रीडिंग नियमित होगी लेकिन कुछ ऐसे भी है जिनका मीटर परिसर के भीतर लगा हुआ है। दुकान बंद होने के कारण रीडिंग लेना संभव नहीं हो रहा है ऐसे में उन दुकान की शून्य खपत की बिल जारी होंगे। ऐसे उपभोक्ताओं को लाकडाउन खुलने के बाद वास्तविक खपत के आधार पर बिजली जारी होगा।