RTGS Disaster Recovery Alert: 14 घंटे के लिए बंद है आरटीजीएस सर्विस

Advertisements

RTGS Alert: भारतीय रिजर्व बैंक आरटीजीएस के ‘डिजास्टर रिकवरी’ समय को और बेहतर करना चाहता है। इसके लिए इसे तकनीकी रूप से और उन्नत किया जा रहा है। इस वजह से आरटीजीएस सेवा शनिवार की आधी रात से 14 घंटे के लिये उपलब्ध नहीं होगी। यह सेवा रविवार दोपहर से फिर काम करना शुरू कर देगी।

हालांकि, इस दौरान 2 लाख रुपये तक के लेन-देन के लिये उपयोग होने वाली NEFT सेवा पहले की तरह काम करता रहेगी। रिजर्व बैंक ने सोमवार को बताया कि 17 अप्रैल 2021 को काम खत्म होने के बाद, आरटीजीएस प्रणाली की क्षमता में सुधार करने तथा ‘डिजास्टर रिकवरी’ समय को और बेहतर बनाने के लिए आरटीजीएस को तकनीकी रूप से उन्नत किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें-  Love Crime & Murder: पत्नी के प्रेमी को शराब पिलायी और गला घोंट मार डाला, बेतिया में फेंकी लाश

इस दौरान आरटीजीएस सेवा 18 अप्रैल 2021, को 00:00 बजे से रविवार 14.00 बजे तक काम नहीं करेगी।

सिर्फ चुनिंदा देशों में ही 24 घंटे मिलती है RTGS सेवा

शीर्ष अदालत ने कहा है कि एनडीपीएस एक्ट की धारा-42 के अनुसार, छापा मारने वाले अधिकारियों को एक निजी वाहन की छानबीन करने के लिए कारण रिकॉर्ड करना होता है, लेकिन इस मामले में अधिकारियों द्वारा ऐसा नहीं किया गया।

अधिकारियों की ओर से दावा किया गया था कि भले ही वाहन निजी था, लेकिन वह सार्वजनिक स्थान (सड़क) पर खड़ा था, ऐसे में उन्हें बिना वारंट छानबीन करने की अनुमति नहीं है।

इसे भी पढ़ें-  अदार पूनावाला और उनके परिवार को मिलेगी Z सिक्योरिटी? बॉम्बे हाई कोर्ट में अर्जी दायर

उनकी ओर से एनडीपीएस अधिनियम की धारा-43 का हवाला देते हुए कहा गया था कि यदि किसी सार्वजनिक स्थान पर सार्वजनिक वाहन की तलाशी ली जाती है, तो अधिकारी को कारणों को रिकॉर्ड करने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन शीर्ष अदालत ने उनकी इन दलीलों को खारिज कर दिया।

भारत में 2 लाख से कम के ऑनलाइन लेन-देन के लिए NEFT सेवा दी जाती है। इसमें आप आसानी से एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। इसके लिए आपको सिर्फ सामने वाले व्यक्ति का बैंक अकाउंट नंबर और IFSC कोड चाहिए होता है।

RTGS सेवा भी बिल्कुल इसी तरह से काम करती है, पर इसका उपयोग बड़े लेन-देन के लिए होता है। यह NEFT की तुलना में ज्यादा अधिकारिक होती है। इसमें ट्रांजैक्सन फेल होने की आशंका भी कम रहती है।

Advertisements