Coronavirus MP News Update: केंद्र सरकार ने कहा-अस्पताल प्रोटोकॉल लागू करे मध्य प्रदेश

Advertisements

Coronavirus Madhya Pradesh News: भोपाल । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति की जानकारी ली है। इसमें प्रदेश के अधिकारियों ने बताया कि 44 जिलों में बीते 30 दिन में 79 फीसद संक्रमण बढ़ा है।

शहरी क्षेत्रों में हालात ज्यादा खराब हैं। केंद्र सरकार ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार अस्पताल प्रोटोकॉल लागू करे। प्रदेश में जांच (टेस्ट), निगरानी (ट्रैक), इलाज (ट्रीट), कोरोना गाइडलाइन का पालन और टीकाकरण के लिए तेजी से काम किया जाए। इसके लिए पुख्ता व्यवस्था बनाई जाए।

बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव अजय कुमार भल्ला व प्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस सहित केंद्र व राज्य के अन्य अधिकारी मौजूद थे। प्रदेश की ओर से बताया गया कि पिछले दो सप्ताह में ही 13.4 फीसद नए केस मिले हैं। सबसे ज्यादा प्रभावित जिले भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और खंडवा हैं।

आरटी-पीसीआर की जांच बढ़ा दी गई है। केंद्रीय अधिकारियों ने मध्य प्रदेश की भौगोलिक स्थिति को भी कोरोना संक्रमण की दर बढ़ने के लिए एक कारण बताया।

केंद्र की ओर से कहा गया है कि अस्पतालों में ऑक्सीजन वाले बिस्तर सहित अन्य आवश्यकताओं की आपूर्ति बनाए रखें। यह भी कहा गया कि केंद्रीय संस्थाओं जैसे रेलवे, कोल इंडिया आदि के अस्पतालों की मदद भी राज्य सरकार ले।

इसके अलावा एमबीबीएस के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों और नर्सिंग की पढ़ाई कर रहे जूनियर का भी सहयोग लिया जाए। इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी हैं। भल्ला ने कहा कि एन-95 मास्क, पीपीई किट, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन सहित अन्य आवश्यकताओं की आपूर्ति बनाए रखें।

इन बिंदुओं पर काम तेजी से करने को कहा

सभी जिलों में आरटी-पीसीआर की जांच कम से कम 70 फीसद तक बढ़ाई जाए।

घनी आबादी वाले क्षेत्रों में रैपिड एंटीजन टेस्ट की संख्या बढ़ाएं।

रैपिड टेस्ट से लेकर आरटी-पीसीआर की जांच आने तक निगरानी की जाए।

संक्रमित व्यक्ति के करीबी संपर्क में आए 25 से 30 लोगों को तत्काल आइसोलेट करें। होम आइसोलेशन वालों की जानकारी लेते रहें।

अस्पताल प्रोटोकॉल लागू करने के साथ ही अस्पतालों में बिस्तर, ऑक्सीजन सहित अन्य सुविधाएं सुनिश्चित करे।

 

शारीरिक दूरी का पालन सुनिश्चित करवाएं।

 

शत-प्रतिशत टीकाकरण करवाया जाए।

Advertisements