स्पुतनिक-V को अभी पास करनी होगी एक और परीक्षा, रिजल्ट में पास होने पर ही टीकाकरण में करेंगे शामिल

Advertisements

भारत ने भले ही रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-V के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है, लेकिन अभी बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने से पहले कुछ दिन इंजार करेगी और परिणाम पर नजर रखेगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तय किया है कि स्पुतनिक वी वैक्सीन लेने वाले पहले 100 लोगों पर सात दिन तक नजर रखी जाएगी। उसके बाद ही इसे टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा।

महामारी से लड़ने के लिए उपलब्ध वैक्सीन की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ घरेलू टीकाकरण कार्यक्रम की गति बढ़ाने के लिए COVID-19 के लिए वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह (NEGVAC) की 23वीं बैठक 11 अप्रैल को हुई थी। इसकी अध्यक्षता नीति आयोग (स्वास्थ्य) के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने की।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: कटनी के पास प्रेमी-प्रेमिका ट्रेन के सामने कूदे, दोनों की मौत

NEGVAC ने व्यापक विचार-विमर्श के बाद सिफारिश की कि COVID-19 के लिए टीके, जिन्हें विदेशों में विकसित किया जा रहा और बनाया जा रहा है, या फिर जिन्हें USFDA, EMA, UK MHRA, PMDA जापान द्वारा प्रतिबंधित इस्तेमाल की मंजूरी मिली है या जिन्हें डब्ल्यूएचओ (आपातकालीन उपयोग सूचीकरण) के सूचीबद्ध किया गया है, उन्हें भारत में मंजूरी दी जा सकती है।

हालांकि इस तरह के विदेशी टीकों को राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान में शामिल करने से पहले 100 लाभार्थियों पर सात दिनों तक नजर रखी जाएंगी।

केंद्र सरकार ने  NEGVAC की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है। इस निर्णय से भारत द्वारा विदेशी टीकों तक त्वरित पहुंच की सुविधा होगी। साथ ही थोक दवा सामग्री के आयात, स्टोरेज क्षमता को बढ़ावा मिलेगा।

Advertisements