WHO ने की मांग- कोरोना वायरस को काबू करने के लिए जिंदा जंगली जानवरों की बिक्री पर लगे रोक

Advertisements

दुनियाभर में जारी कोरोना वायरस के कोहराम के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को मांग की है कि इस महामारी को और फैलने से रोकने के लिए जिंदा जंगली स्तनधारी जानवरों की बाजारों में बिक्री पर रोक लगे।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपने बयान में कहा है, ‘इंसानों में फैल रहे 70 प्रतिशत संक्रामक रोग जानवर, खासतौर पर स्तनधारी जंगली जानवरों के कारण हैं। जंगली, जानवरों से नई बीमारियों के पैदा होने का जोखिम होता है।’

रिपोर्ट में कहा गया था कि इस बात की सबसे अधिक आशंका है कि चमगादड़ से कोरोना वायरस किसी अन्‍य जानवर में गया और वहां से इंसानों में फैल गया। शोधकर्ताओं ने SARS-CoV-2 वायरस की उत्पत्ति के लिए चार प्रमुख कारण बताए। इनमें एक जानवर के माध्यम से दूसरे जानवर में संक्रमण फैलने की संभावना को प्रमुख कारण माना गया है। चमगादड़ से सीधे इंसान में संक्रमण फैलने की संभावना न के बराबर बताई गई है।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: 647 सेम्पल की रिपोर्ट में 58 नए पॉजिटिव केस

 

 

 

 

बता दें कि इसी साल जनवरी में डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों की एक टीम चीन गई थी। इस टीम ने भी अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया था कि संभवत: कोरोना वायरस जानवरों के जरिए इंसानों में आया।

Advertisements