24 घंटे के लिये मिंटो हॉल में गांधी प्रतिमा के पास बैठेंगे CM शिवराज, करेंगे स्वास्थ्य आग्रह

Advertisements

Bhopal. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री Chief Minister शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना से निपटने के लिए स्वास्थ्य आग्रह करने का फैसला लिया है, वे मंगलवार 12.30 दोपहर से 24 घंटे के लिये मिंटो हॉल में गांधी प्रतिमा के पास  के पास बैठेंगे। उनका मानना है कि उनका यह प्रयास लोगों में जनचेतना जगाने के साथ-साथ लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करेगा।

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने सोमवार को राजधानी भोपाल में कई स्थानों पर लोगों को मास्क पहनने के लिए प्रेरित किया और साथ ही ‘मास्क नहीं तो बात नहीं’ अभियान की शुरुआत भी की ।इस दौरान उन्होंने लोगों को कोरोना संक्रमण के बारे में बताया और कहा कि यदि अब भी नहीं चेते तो स्थिति बहुत भयावह हो जाएगी। इसीलिए हर व्यक्ति को चाहिए कि वह न केवल खुद मास्क पहने बल्कि परिवार के लोगों को भी मास्क पहनने के लिए प्रेरित करें और लोगों को मास्क लगाने के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए ऐसे लोगों का सोशल बाय काट करें जो मास्क नहीं पहनते। मुख्यमंत्री (Chief Minister) मंगलवार को 12.30 बजे (Chief Minister) मिंटो हॉल में गांधी प्रतिमा के पास   24 घंटे के लिए स्वास्थ्य आग्रह  पर बैठेगे। उनका यह मानना है कि उनका यह प्रयास लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करेगा।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना वैक्सीन के दो डोज के बिना इस बार हज यात्रा की अनुमति नहीं

मुख्यमंत्री (Chief Minister) की कल कैबिनेट की वर्चुअल बैठक होगी और उसमें केवल कोरोना के बारे में विचार किया जाएगा। उन्होंने लोगों से मैं कोरोन स्वंय सेवक यानी कोरोना वारियर्स भर्ती करने की बात भी कही। मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि उनकी राजनीतिक दलों से भी बात हुई है। इसके साथ ही उन्होंने आज पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) कमलनाथ से भी बात की है और उन्होंने उन्हें कई सुझाव कोरोना से निपटने के लिए भेजने की बात कही है। उन्होंने कोरोना से निपटने के लिए दलगत राजनीति से ऊपर उठकर सोचने की बात भी कही। मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने निजी अस्पतालों को भी कहा है कि वे अपने आप ज्यादा से ज्यादा बैड कोविड-19 के लिए खाली रखें और इस समय मुनाफे की बजाय जन हित की बात करें।

सोमवार को ही कोरोना को रोकने ‘कङाई भी, दवाई भी’ इस नारे  के बाद अब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने एक नया नारा दिया  ‘मास्क  नहीं तो बात नहीं।’ उन्होंने लोगों से साफ तौर पर कहा कि यदि कोई व्यक्ति बिना मास्क लगाने आपके पास आए तो उससे बात ही ना करें। इस तरह का सामाजिक बहिष्कार ही लोगों को मास्क लगाने के लिए प्रेरित करेगा और यदि व्यक्ति मास्क लगा लेगा तो कोरोना संक्रमण का खतरा काफी हद तक कम हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने स्वयं अपने परिवार में पत्नी एवं दोनों बच्चों की मास्क लगाकर इस अभियान की शुरुआत की और सोमवार की शाम वै भोपाल के कई इलाकों में घूम कर लोगों को अभियान के लिए प्रेरित कर रहे है।

इसे भी पढ़ें-  शहर में आक्सीजन सिलेंडर की कमी, डीजल शेड में आक्सीजन सिलेंडर से काटे जा रहे कंडम इंजन

(Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने कहा कोरोना को नियंत्रित करने का एक उपाय लॉक डाउन है ।लेकिन मैं लॉक डाउन करना नहीं चाहता क्योंकि इससे बेरोजगारी फैलती है, लोगों को रोजगार नहीं मिलता, लोगों को काम न मिलने की स्थिति में भुखमरी की स्थिति पैदा हो जाती है। उन्होंने कहा कि इसलिए  लॉकडाउन सप्ताह में एक दिन या क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी जो तय करेगी, वह होगा। लेकिन इसका सबसे प्रभावी उपाय मास्क लगाना है और इसीलिए इसकी शुरुआत परिवार से करें। अपनी पत्नी और बच्चों के साथ मास्क लगाकर ही बाहर निकले। बच्चे भी पढ़ने के घर से बाहर निकले तो मास्क लगाकर ही निकले। परिवार के किसी भी सदस्य को मास्क के बिना बाहर नहीं जाने देंगे।  शिवराज ने कहा कि जो मास्क नहीं लगा रहे वे पाप कर रहे हैं और दूसरों के लिए भी खतरा बन रहे हैं। मास्क लगाना खुद अपने लिए जरूरी नहीं है बल्कि हर व्यक्ति के लिए जरूरी है ।मुख्यमंत्री खुद आज इस बाबत लोगों से अपील कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: निरंजनी अखाड़े ने की कुंभ समाप्ति की घोषणा

(Chief Minister) उन्होंने लोगों से यह भी कहा कि आपका कोई दोस्त अगर बिना मास्क लगाए आए तो उसे साफ कहते हैं कि ‘मास्क  नहीं तो बात नहीं’। अगर आप दुकान पर सामान लेने जाते हैं और दुकानदार मास्क नहीं लगाए हैं तो उससे भी कह दे कि मास्क नहीं तो सामान आपकी दुकान से नहीं लेंगे। ऐसा ही दुकानदार भी ग्राहक के साथ करें कि यदि कोई ग्राहक बिना मास्क के आए तो उसे सामान लेने से इनकार कर दे उन्होंने नारा दिया कि मास्क ही सुरक्षा है

Advertisements