Crime: प्रेमी से बात करने पर सौतेले पिता ने की बेटी की हत्या, लाश को नदी में फेंका

Advertisements

प्रेमी से बात करने पर सौतेले पिता ने बेटी की गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को पुनपुन नदी में फेंक दिया। घटना नालंदा के एकंगरसराय के काली स्थान मंदिर के समीप बीते रविवार को हुई। लाश को सौतेले पिता संतोषी ठाकुर ने उसी रोज फतुहा लाकर नदी में फेंक दिया।

स्थानीय पुलिस ने बुधवार को विक्रमपुर गांव के सामने पुनपुन नदी से 15 साल की किशोरी का शव बरामद किया। शव की पहचान होने पर उसके परिजनों को खबर दी गयी। किशोरी के ननिहाल पक्ष का आरोप है कि सौतेले बाप ने मां मंजू और किशोरी मधु की पिटाई की। इस दौरान उसने रस्सी से गला दबाकर किशोरी की हत्या कर दी। खुद को बचाने के लिये शव लेकर संतोषी फतुहा चला आया और उसे फोरलेन पुल से नदी में फेंक दिया।

इसे भी पढ़ें-  Bride Slapped Groom : विदा होकर ससुराल पहुंची दुल्हन ने गाड़ी से उतरते ही दूल्हे को जड़ा थप्पड़, फिर...

फतुहा थानेदार मनोज सिंह ने बताया कि पुलिस ने आरोपित पिता को गिरफ्तार कर लिया। उसने पुलिस की पूछताछ में हत्या की बात स्वीकार नहीं की है। आरोपित का कहना है कि लड़के से बात करने से उसने मधु को मना किया था। मारपीट भी की थी।

इसके बाद मधु ने आत्महत्या कर ली। हालांकि, पुलिस का मानना है कि आरोपित खुद को बचाने के लिये गलत बयान दे रहा है। पुलिस संतोषी से पूछताछ कर रही है।

ननिहाल वालों ने पकड़वाया
मृतका के ननिहाल के परिजनों को जैसे ही उसकी मौत की खबर मिली सभी फतुहा पहुंच गये। सभी ने बहाने से सौतेले पिता संतोषी को बुला लिया। इसके बाद उसे फतुहा पुलिस के हवाले कर दिया। ग्रामीणों के अनुसार करीब 12 वर्ष पूर्व नवीगंज एकंगरसराय निवासी स्व. आनंद ठाकुर की मौत के बाद मृतका की मां मंजू देवी ने संतोषी ठाकुर से शादी की थी। मंजू को पहले पति से दो पुत्र और एक पुत्री मधु थी। संतोषी ठाकुर का अपनी पत्नी से तलाक हो चुका था और वह मंजू के साथ ही रहता था। संतोषी पत्नी और उसके बच्चों की अक्सर बेरहमी से पिटाई करता था।

Advertisements