फैसला: मरते दम तक रहेगा जेल में रहेगा बच्ची से दुष्कर्म का आरोपी

Advertisements

कटनी, (विवेक शुक्ला)। थाना कोतवाली के जघन्य सनसनीखेज मामले में माननीय विशेष न्यायाधीश एस सी/एस टी कटनी द्वारा आज दिनांक 27/03/2021 को बच्ची के साथ दुष्कर्म के आरोपी अनिल गोस्वामी को मृत्यु पर्यंन्त तक के कारावास एवं जुर्माने से दण्डित किया गया।

अभियोजन के अनुसार घटना दिनांक 29.04.2018 को शाम करीब 6 बजे आरोपी पीडिता के घर में था, जो शराब पिए हुए था, पीडिता जिसे उसके घर पहुँचाने के लिए ले गई, अपने घर पहुँचते ही आरोपी ने उसे घर की लाईट चालू करने के लिए कहा और जब पीडिता ने लाईट चालू कि तो उसने घर का दरवाजा बंद कर दिया, पीडिता को तलवार से मारने का डर दिखाके पीडिता के साथ दुष्कर्म किया।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: 647 सेम्पल की रिपोर्ट में 58 नए पॉजिटिव केस

पीडिता जब काफी देर तक घर नहीं पहुँची तो उसकी छोटी बहन मुहल्ले की महिलाओं को बताई जो आरोपी के घर जाकर देखी तो दरवाजा बंद था, जो लात मारने पर खुल गया आरोपी पीडिता के साथ दुष्कर्म करते हुए देखा गया , जो लोगो को देखकर छुप गया।

घटना की रिपोर्ट मुहल्ले की मुन्नी तिवारी द्वारा थाना कोतवाली कटनी में दर्ज कराई गई, पीडिता जो 11 वर्ष की बालिका थी, के साथ दुष्कर्म करने पर आरोपी अनिल गोस्‍वामी के विरूद्ध मामला पंजीबद्ध किया गया।
विचारण के दौरान माननीय विशेष न्यायाधीश एस सी/एस टी कटनी के समक्ष 19 साक्षियों के कथन कराए गए, माननीय न्यायालय द्वारा एम एल सी करने वाले डॉक्टर, एफ एस एल प्रयोग शाला की रिपोर्ट से पीडिता के कथन को प्रमाणित पाते हुए तथा अभियोजन द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य एवं लिखित तर्क से सहमति जताते हुए 11 वर्ष की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी अनिल गोस्वामी को भादवि की धारा 376 (एबी) में शेष प्राकृतिक जीवनकाल अर्थात मृत्युतक के कारावास से, धारा 6 पाक्सो अधिनियम में आजीवन कारावास से, धारा 342 भादवि के लिए 06 माह के सश्रम कारावास से दण्डित किया गया है एवं अतिरिक्त, अभियुक्त के ऊपर 10500 रूपये का अर्थदण्ड भी अधिरोपित किया गया, जो पीडिता को उसके पुनर्वास हेतु प्रदान किया जावेगा* ।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: 24 घंटे में 975 सेम्पल की रिपोर्ट मिली, 88 नए पॉजिटिव केस

न्यायालय द्वारा निर्णय सुनाते हुए कहा गया कि- अभियुक्त का कृत्य अत्यधिक घृणित और निदंनीय है और ऐसे घृणित कृत्यों को किसी भी रूप से प्रोत्साहन दिया जाना उचित नहीं है और अभियुक्त को कडे दंड से दंडित कर समाज को समुचित मेसेज दिया जाना भी पूर्णतया उचित और न्यायसंगत है।”

प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी विशेष लोक अभियोजक हनुमंत किशोर शर्मा एवं सहयोग ए.डी.पी.ओ. सुश्री नविता पिल्लै द्वारा किया गया , इस आशय की जानकारी मीडिया सेल प्रभारी दिनेश कुमरे द्वारा दी गई।

Advertisements