Covid Vaccination: टीकाकरण केंद्र पर महिला नेत्री की दादागिरी, बुजुर्ग लाइन में होते रहे परेशान

Advertisements

इंदौर Covid Vaccination Indore। कोरोना के टीकाकरण केंद्र पर भी राजनेताओं की सिफारिश और मनमानी लोगों को परेशान कर रही है। गुरुवार दोपहर फूटी कोठी स्थित नगर निगम के जोन पर चल रहे टीकाकरण में पूर्व पार्षद व भाजपा नेता कंचन गिदवानी के कारण लाइन में लगे बुजुर्ग घंटों परेशान होते रहे। दोपहर में टीकाकरण केंद्र पहुंची पूर्व पार्षद अपने साथ 15 से ज्यादा लोगों को लेकर पहुंची। अपना प्रभाव दिखाकर साथ आए लोगों को टीका लगाने का निर्देश केंद्र पर मौजूद स्वास्थ्य कर्मियों को दे दिया। मौके पर मौजूद भाजपा के मंडल अध्यक्ष से भी भाजपा नेत्री की केंद्र के भीतर ही जमकर बहस हुई। विवाद के चलते केंद्र पर काफी देर तक टीकाकरण भी रुका रहा।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: पॉजीटिव केस में कमी, 24 घंटे में 199 नए संक्रमित, 55 लोगो ने दी कोरोना को मात

दोपहर करीब ढाई बजे पूर्व पार्षद टीकाकरण केंद्र पहुंची थी। गिदवानी एक वृद्धाश्रम संचालित करती है। गिदवानी अपने वृद्धाश्रम के बुजुर्गों को लेकर पहुंची थी। गिदवानी सीधे वैक्सीनेशन रूम में पहुंची और साथ आए लोगों को पहले टीका लगाने के लिए कह दिया। वहां टोकन लेकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे दूसरे बुजुर्गों ने इस पर टोका तो स्वास्थ्यकर्मियों ने गिदवानी को टोकन लेने के लिए कहा।
इस पर गिदवानी ने पहले सांसद शंकर लालवानी का नाम लिया। बाद में जोनल अधिकारी का आदेश होने की बात कही। टीकाकरण केंद्र में भाजपा के मंडल अध्यक्ष शानू शर्मा मौजूद थे। उन्होंने आकर जोनल अधिकारी को फोन लगाया तो अधिकारी ने किसी भी तरह की विशेष अनुमति देने से इनकार कर दिया। इस पर गिदवानी शर्मा पर भड़क गई कि मेरे साथ आए लोग बुजुर्ग है। इस पर शर्मा ने केंद्र के बाहर लाइन में बैठे 40 से ज्यादा लोगों की ओर इशारा कर कहा कि ये भी सब बुजुर्ग हैं और सुबह से टोकन लेकर बैठे हैं। आप भी पहले टोकन लो। दोनों भाजपा नेताओं में जमकर बहस हुई।
शर्मा ने कहा कि कोई पूर्व पार्षद है इसका मतलब ये नहीं हो सकता की वो टीकाकरण की व्यवस्था को अपने हिसाब से कर दे। हालांकि पार्षद नहीं मानी। मंडल अध्यक्ष को बाहर कर दिया। स्वास्थ्यकर्मियों को डपटकर अपने लोगों को पहले टीका लगवाया।
कलेक्टर का आदेश था
कलेक्टर का आदेश था कि वृद्धाश्रम के बुजुुर्गों को पहले टीका लगेगा। आश्रम का मैनेजर बात करके गया था। उसे जोनल अधिकारी ने थोड़ी देर से आने के लिए कहा था। वेबवजह कुछ लोगों ने विवाद किया। उनके कारण ही टीकाकरण रुका।
– कंचन गिदवानी, पूर्व पार्षद

Advertisements