भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी को सभा की नहीं मिली अनुमति, फिर अपनाए तीखे तेवर

Advertisements

Satna News: । पृथक विंध्य प्रदेश की मांग को लेकर गुरुवार को सतना में आयोजित जनसभा की प्रशासन से अनुमति नहीं मिलने पर भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने एक बार फिर तीखे तेवर दिखाते हुए कहा, जहां चुनाव होते हैं वहां कोरोना नहीं आता और जहां जनहित के मुद्दे उठाए जा रहे हैं वहां कोरोना जैसी महामारी आ जाती है और मुद्दे दबाने की कोशिश हो रही है।

विधायक त्रिपाठी पृथक विंध्य प्रदेश को लेकर लगातार सभाएं और दौरे कर रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण जब प्रशासन ने सभा की अनुमति नहीं दी तो त्रिपाठी विरोध व्यक्त करने मीडिया के सामने आ गए। सतना सर्किट हाउस में पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने इशारों ही इशारों में अपनी ही पार्टी पर सवाल उठा दिए। हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि उनके बयानों को पार्टी से जोड़कर न देखा जाए।

इसे भी पढ़ें-  भोपाल व हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर कोच के अंदर शुरू होंगे दो मिनी अस्पताल

विधायक ने कहा ‘हम काहे को डरें, न हमें टिकट की चिंता है, न हमें टिकट लेना है”। मैहर की जनता ने हमें चार बार अलग-अलग दल से विधायक बनाया, इसलिए हमें किसी दल की चिंता नहीं है। जब टिकट की चिंता नहीं है, तो हम कोई धंधा व्यापार, ट्रक या खदान नहीं चलाते कि कोई भी सरकार हमारा कुछ कर लेगी। हम तो कहते हैं हमारा विंध्य प्रदेश हमें दे दो। अगर नहीं दोगे तो हम तुम्हारा खेल खत्म कर देंगे। विंध्य प्रदेश बनाने के लिए अब याचना नहीं, रण होगा। हमने तय कर लिया है कि राजनीति नहीं करेंगे। राजनीति सिर्फ विंध्य प्रदेश बनाने के लिए करेंगे। हमारा विंध्य प्रदेश इतना सक्षम है कि गरीबी रेखा के राशन कार्ड की जरूरत नहीं है। वह दूसरे राज्यों को भी गोद ले सकता है।

Advertisements