कुसली गांव में 38 एकड़ खुल रहा जिले का चौथा सायलो बैग सेंटर, 500000 क्विंटल गेहूं का होगा भंडाराण

Advertisements

किशोर गौतम। जबलपुर यश भारत विगत वर्ष गेहूं उपार्जन में किसानों के सायलो केंद्रों के प्रति रुझान को देखते हुए इस वर्ष जबलपुर जिले के पाटन तहसील के अंतर्गत आने वाले कटंगी जबलपुर मार्ग पर पडने वाले कुसली ग्राम में गेहूं खरीदी के लिए सायलो बैग केंद्रों से गेहूं खरीदी को प्राथमिकता दी गई है। इस संबंध में जिला विपणन अधिकारी और रोहित बघेल ने जानकारी देते हुए बताया कि इस साइलो करीब 10 केंद्रों को सम्मिलित किया गया है जिसमें करीब 4 लाख किसानो को इसका लाभ मिल सकेगा किसानों के गेहूं की तुलाई होने के बाद 3 दिन में इसका भुगतान हो जाएगा

5 लाख कुंटल की होगी क्षमता

वही इस संबंध में साइलो बैग के ब्रांच मैनेजर सुधीर चौबे ने जानकारी देते हुए बताया कि इस सायलो केंद्र की भंडारण क्षमता 5 लाख क्विंटल है।

कुसली ग्राम बन रहे इस साइलो बैग का 38 एकड़ के क्षेत्र में सायलो निर्माण का कार्य प्रगति पर है। सायलो केंद्र में धर्मकांटा, आपरेटर को बैठने के लिए हाल, किसानों की बैठने की सुविधा के लिए शामियाना, पीने के पानी के लिए टैंकर की व्यवस्था के साथ ही यदि किसी किसान का गेहूं एफएक्यू नहीं पाया जाता है तो उसे सुधारने के लिए त्रिपाल एवं छन्नों की व्यवस्थाएं भी की जा जाएगी।

इसे भी पढ़ें-  भोपाल व हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर कोच के अंदर शुरू होंगे दो मिनी अस्पताल

यह होगी पूरी प्रक्रिया
इस संबंध में साइलो बैग ब्रांच मैनेजर सुधीर कुमार चौबे ने जानकारी में बताया कि किसान अनुमानित मात्रा और रजिस्ट्रेशन नंबर लेकर पहुंचेगा। जहां पार्किंग ट्रॉली को नंबर देकर खड़ा कराया जाएगा। किसान को रजिस्ट्रेशन कराना होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद किसान ट्रॉली लेकर माल की सैम्पलिंग कराने के लिए बनी प्रयोगशाला में पहुंचेगा। प्रयोगशाला में एफएमक्यू की मानक स्तर में पास होने पर गेहूं से लदी ट्रॉली की कांटे से तुलाई कराई जाएगी। तौल होने के बाद गेहूं से लदी ट्रैक्टर ट्रॉली को एक टैंक में पहुंचा कर पूरा गेंहू उस टैंक में डाल दिया जाए। प्रेशर मशीन के द्वारा उस गेहूं को ग्रेडर कार्ड मशीन द्वारा खींचकर ट्रैक्टर ट्रॉली के माध्यम से साइलो बैक तक पहुंचाया जाएगा। जहां दूसरी मशीन से प्रेशर द्वारा संबंधित ट्राली में रखे गेहूं को साइलो बैग में भरा जाएगा।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना संकट के बीच वायुसेना ने संभाला मोर्चा, एयरलिफ्ट कर पहुंचा रही ऑक्सीजन, दवाइयां

300 ट्राली गेहूं तोलने का है लक्ष्य
इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार साइलोटेक के अंदर 1000 ट्राली की पार्किंग करने की व्यवस्था की जा रही है जिसमें करीब 300 ट्राली प्रतिदिन तुलाई करने का लक्ष्य रखा गया है किसानों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना ना हो इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है ब्रांच मैनेजर ने बताया कि इस कार्य में कुसली निवासी ठाकुर राजेश सिंह का सराहनीय सहयोग प्राप्त हुआ है/
किसानों को नहीं देना पड़ेगी कोई पल्लेदारी
अभी तक सोसाइटी में होने वाली खरीदी के दौरान गेंहू तौल के लिए किसानों से परिवहन, बोरी की छपाई, तुलाई तक का पैसा वसूल किया जाता था। किसान मैसेज आने के बाद भी कई दिनों तक पड़े रहते थे। बारदानों की कमी के कारण तौल का काम रुक जाता था, साथ ही परिवहन भी ठप हो जाता था, लेकिन साइलो बैग में उपज के भंडारण से किसानों को फायदा ही फायदा होगा। किसान अब संबंधित सोसायटी का अपनी उपज लेकर सीधे ट्रैक्टर ट्रॉली से साइलो बैग पहुंचेगा।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना का तांडव: एक दिन में पहली बार 2 हजार मौतें और करीब 3 लाख नए केस, जानें कहां-कैसे हैं हालात

सीसीटीवी कैमरे से होगी पूरे परिसर की निगरानी
38 एकड़ में बनाए जा रहे इस साइलो बैग मैं भंडारण की व्यवस्था के लिए यहां पर चारों तरफ 8 सीसीटीवी कैमरा लगवाए जाएंगे जो यहां की पूरी गतिविधियों पर अपनी नजर रखेंगे साथ ही कोरोना काल को लेकर यहां पर आने वाले किसानों के लिए सैनिटाइजर हैंडवास की व्यवस्था भी रहेगी।

Advertisements