लखनऊ शताब्दी की जेनरेटर कार में लगी आग, 1 घंटा 35 मिनट की देरी से रवाना हुई ट्रेन

Advertisements

नई दिल्ली/गाजियाबाद। Lucknow Shatabdi Train Fire News: दिल्ली से चलकर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ जाने वाली लखनऊ शताब्दी के यात्रियों में शनिवार सुबह उस समय हड़कंप मच गया, जब ट्रेन की जेनरेटर कार में आग लग गई। इसके चलते ट्रेन गाजियाबाद स्टेशन से 1 घंटा 35 मिनट की देरी से रवाना हुई, क्योंकि आग पर काबू पाने में काफी समय लग गया। मिली जानकारी के मुताबिक, शनिवार सुबह बजकर 45 मिनट पर लखनऊ शताब्दी ट्रेन की जेनरेटर कार में आग लग गई। हादसे के एक घंटे बाद पहुंचे दमकलकर्मियों ने ट्रेन से जेनरेटर कार को अलग किया गया। आग पर पूरी तरह से काबू पाने के बाद ही ट्रेन को लखनऊ के लिए रवाना किया।

इसे भी पढ़ें-  MP High Court: हाईकोर्ट ने मांगा निजी अस्पतालों में कोरोना के इलाज के रेट का ब्यौरा

वहीं, इससे पहले नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से चलने वाली लखनऊ मेल में बृहस्पतिवार देर रात विस्फोट की धमकी के चलते गाजियाबाद में हड़कंप मच गया। बताया गया कि यूपी-112 पर मिली बम की धमकी की सूचना दिल्ली कंट्रोल रूम को दी गई थी, लेकिन तब तक ट्रेन दिल्ली से चल चुकी थी।

इसके बाद आनन-फानन में लखनऊ मेल ट्रेन को गाजियाबाद जंक्शन पर रोककर सघन तलाशी ली गई। आरपीएफ, जीआरपी और गाजियाबाद पुलिस ने लखनऊ मेल के हर कोच का कोना-कोना छाना। एक घंटे बाद कुछ नहीं मिलने की पुष्टि होने पर अधिकारियों ने राहत की सांस ली और ट्रेन को रवाना किया।

इसे भी पढ़ें-  Bride Slapped Groom : विदा होकर ससुराल पहुंची दुल्हन ने गाड़ी से उतरते ही दूल्हे को जड़ा थप्पड़, फिर...

 

यात्री हुए परेशान

बताया जा रहा है कि नई दिल्ली से ट्रेन के निकलते ही मिली सूचना के बाद रेलवे स्टेशन को भी खाली कराया गया। प्लेटफार्म एक पर आधी रात करीब 12 बजे ट्रेन पहुंची। इससे पहले नगर कोतवाल संदीप सिंह पुलिस लाइन व 41वीं वाहिनी पीएसी से श्वान व बम निरोधक दस्ता के साथ पहुंचे और जीआरपी एसएचओ अमीराम के साथ आरपीएफ इंस्पेक्टर पीकेजीए नायडू के साथ चेकिंग शुरू कराई। तीनों पुलिस बल की अलग-अलग टीम बनाकर श्वान व हैंड हेल्ड मेटल डिटेक्टर से ट्रेन की तलाशी की गई। इस सूचना से यात्रियों में भी डर दिख रहा था। एक घंटे तक चेकिंग चली, जिस कारण ट्रेन से सफर कर रहे यात्री परेशान हुए। हालांकि अधिकारी बार-बार यात्रियों से बात कर उन्हें आश्वस्त करते रहे। जीआरपी एसएचओ अमीराम का कहना है कि यूपी-112 से काल आने की सूचना मिली थी। ट्रेन को रोककर करीब एक घंटे तक चे¨कग की गई। आश्वस्त होने के बाद ही ट्रेन को रवाना किया गया।

Advertisements