सचिन वाझे को ओवर साइज कुर्ता पहनाकर चलवाया, NIA ने ऐसे किया अंबानी के घर के बाहर क्राइम सीन रीक्रिएट

Advertisements

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फटकों से भरी कार मिलने के मामले में एनआईए की जांच जारी है। एंटीलिया केस की जांच कर रही एनआईए ने शुक्रवार देर रात घटना वाली जगह पर क्राइम सीन को रीक्रिएट किया। इस दौरान एनआईए की टीम निलंबित पुलिस अधिकारीसचिन वाझे को भी साथ ले गई थी, जहां पर सीसीटीवी फुटेज के आधार पर क्राइम सीन रीक्रिएट किया गया।

समाचार एजेंसी एएनआई ने इसकी कुछ तस्वीरें जारी की है। एजेंसी के मुताबिक, मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाझे को बड़ा सा कुर्ता पहनाकर उसी जगह पर ले जाया गया, जहां पर विस्फोटक से स्कॉर्पियो कार बरामद हुई थी। इस दौरान मुकेश अंबानी के घर के बाहर भारी संख्या में पुलिसबल की मौजूदगी थी। सचिन वाझे को उसी तरह का ओवर साइज्ड कुर्ता पहनाकर पैदल चलाया गया, जैसा कि वह सीसीटीवी फुटेज में दिखे थे।

इससे पहले एनआईए ने कहा था कि सीसीटीवी फुटेज में सचिन वाझे को अपने सिर को बड़े रूमाल से ढंकते हुए देखा गया था, ताकि कोई उन्हें पहचान न सके। सचिन वाझे ने चेहरे को ढकने के लिए और पहचान जाहिर न हो पाए, इसके लिए एक ओवर साइज़्ड कुर्ता-पायजामा (पजामा) पहना था। एजेंसी ने कहा कि वह पीपीई किट नहीं था। ऐसा इसलिए किया ताकि उनके चाल-चलन और हा-भाव से कोई पहचान न सके।

इसे भी पढ़ें-  Story Of Dashahari Aam : दशहरी आम के जनक की: तीन सौ साल है इस पेड़ की उम्र, 1600 वर्ग फीट में है फैला, पढ़ें इससे जुड़ा इतिहास

इधर, जांचकर्ताओं ने शुक्रवार को दावा किया कि सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि 17 फरवरी को निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे और हिरन के बीच मुलाकात हुई थी और इसी दिन कारोबारी मनसुख हिरन के पास से स्कॉर्पियो कार ‘चोरी’ हुई थी। हिरन पांच मार्च को ठाणे में एक नहर के निकट मृत पाए गए थे। उनके परिवार ने उनकी मौत में वाजे की भूमिका होने का आरोप लगाया था।

जिलेटिन की छड़ों से लदी यही स्कॉर्पियो कार 25 फरवरी को उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के निकट खड़ी मिली थी जिसकी जांच राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) कर रही है। एक अधिकारी ने बताया कि हिरन की रहस्यमयी मौत से संबंधित मामले की जांच कर रहे आतंकवाद-रोधी दस्ते को दक्षिण मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) के निकट एक स्थान का सीसीटीवी फुटेज मिला है, जिसमें वाजे और हिरन मर्सिडीज कार में बैठे दिख रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  Story Of Dashahari Aam : दशहरी आम के जनक की: तीन सौ साल है इस पेड़ की उम्र, 1600 वर्ग फीट में है फैला, पढ़ें इससे जुड़ा इतिहास

विस्फोटक लदी कार मिलने के मामले की जांच कर रहे राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने वाजे की गिरफ्तारी के बाद, कथित रूप से उनके द्वारा इस्तेमाल की गई वही मर्सिडीज कार जब्त कर ली थी। अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि हिरन और वाजे करीब 10 मिनट तक कार में ही बैठे रहे।

 

उन्होंने कहा कि हिरन ने दावा किया था कि 17 फरवरी को जब वह ठाणे में अपने घर से दक्षिण मुंबई की ओर जा रहे थे तो स्कॉर्पियो का स्टीयरिंग जाम हो गया था, इसलिये वह कार को मुलुंद -एरोली सड़क पर छोड़कर कैब से आगे चले गए थे। अगले दिन उनकी एसयूवी लापता हो गई थी।

अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में वाजे मर्सिडीज कार से पुलिस आयुक्त के कार्यालय से निकलते दिखे हैं। कार जब छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस के बाहर रुकती है तो हिरन उसकी ओर आते दिख रहे हैं। वह कार में बैठते हैं और दस मिनट बाद कार से निकल जाते हैं जबकि वाजे कार चलाकर आयुक्त के कार्यालय चले जाते हैं। सूत्रों ने कहा कि एटीएस को संदेह है कि इस मुलाकात के दौरान ही हिरन ने स्कॉर्पियो की चाबी वाजे को सौंप दी थी।

इसे भी पढ़ें-  Story Of Dashahari Aam : दशहरी आम के जनक की: तीन सौ साल है इस पेड़ की उम्र, 1600 वर्ग फीट में है फैला, पढ़ें इससे जुड़ा इतिहास

एनआईए ने अंबानी के घर के निकट एसयूवी खड़ी करने के मामले में कथित भूमिका के लिये 13 मार्च को वाजे को गिरफ्तार कर लिया था।  इस सप्ताह की शुरुआत में एनआईए ने कहा था कि उसने सीएसएमटी के निकट पार्किंग में खड़ी काले रंग की मर्सिडीज कार जब्त की है, जिसमें से पांच लाख रुपये, नोट गिनने की मशीन और अपराध में इस्तेमाल किये गए” कुछ दस्तावेज बरामद किये गए हैं। इस बीच, शुक्रवार को एनआईए के महानिरीक्षक अनिल शुक्ला एवं अधीक्षक विक्रम खलाते ने मुंबई के नवनियुक्त पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले से मुलाकात की।

Advertisements