बड़ी घटनाः डिंडोरी में मां और दो बच्चे जिंदा जले, राख का ढेर बन गई लाशें

Advertisements
  • डिंडोरी में  मां और दो बच्चे जिंदा जले, राख का ढेर बन गई लाशें
  • मध्यप्रदेश में एक महिला अपने दो बच्चों के साथ जिंदा जल गई, संदिग्ध परिस्थितियों में हुई घटना की जांच की मांग…।

डिंडोरी। मध्यप्रदेश के डिंडोरी जिले में एक ही परिवार के तीन सदस्य जिंदा जल गए। हादसा इतना भयानक था कि आसपास की दो दुकानें भी जलकर राख हो गई। मंगलवार देर रात को हुई इस घटना पर न किसी की चीख उठी न ही किसी की नजर पड़ी। बुधवार सुबह लोगों को इस घटना के बारे में पता चला। हादसा देख हर किसी की रूह कांप गई, राख के ढेर में लाशों को पहचानना मुश्किल था।

इसे भी पढ़ें-  चुनाव में ऐसे उड़ रही कोविड नियमों की धज्जियां? कोरोना वॉर्ड को बना डाला पोलिंग बूथ

डिंडोरी जिले के अमरपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत किसलपुरी बस स्टैंड के पास सरकारी आवास में मंगलवार देर रात को हुआ। अचानक आग लगने से उसमें रह रहे वनवासी समाज की 27 वर्षीय महिला और उसके दो बच्चे जिंदा जल गए। महिला सपना वनवासी पति मोहन वनवासी कपड़ों की सिलाई का काम करती थी, जबकि महिला का पति नागपुर में मजदूरी करता था। बस स्टैंड के पास घर में सपना अपने 3 वर्षीय बेटे ऋषभ और 6 वर्षीय बेटी जानवी के साथ रहती थी। बुधवार सुबह जब लोगों को यह घटना पता चली, तब तक सपना वनवासी उम्र 27 वर्ष, जानवी वनवासी उम्र 6 वर्ष और ऋषभ वनवासी उम्र 4 वर्ष राख के ढेर बन चुके थे।

इसे भी पढ़ें-  सारा अली खान और जाह्नवी कपूर के बीच है जबरदस्त बॉन्डिंग, साथ में करती दिखीं वर्कआउट

बताया जा रहा है कि मोहन वनवासी नाम के व्यक्ति का परिवार सरकारी आवास में रहता था, उसे यह आवास आवंटित हुआ था। मंगलवार रात को संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई। जिसमें तीनों जलकर राख हो गए। घटना की भनक आसपास रहने वाले लोगों को भी नहीं लगी। बुधवार सुबह जब सभी ने देखा तो हैरान रह गए।

बताया जा रहा है कि आग इतनी भयानक थी कि आवास के बगल में लगी दो दुकानें भी जल गई। अमरपुर जनपद सदस्य कृष्ण कुमार मिश्रा के मुताबिक घटना कैसे हुई, इसकी जांच होना चाहिए, यह बेहद दुखद घटना है।

Advertisements