Holi 2021: 22 मार्च से लगेगा होलाष्टक, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि के साथ पूरी जानकारी

Advertisements

Holashtak 2021 Date पंचांग के अनुसार साल 2021 में होलाष्टक का आरंभ 22 मार्च से हो जाएगा।

इस दिन फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि रहेगी। ज्योतिष के मुताबिक चंद्रमा मिथुन राशि में विराजमान होंगे और इस दिन आद्रा नक्षत्र भी रहेगा।

वहीं अन्य ग्रहों व राशियों की बात की जाए तो वृष राशि में राहु और मंगल, वृश्चिक राशि में केतु, मकर राशि में गुरू और शनि, कुंभ राशि में बुध और मीन राशि में सूर्य व शुक्र विराजमान रहेंगे।

ज्योतिषों के मुताबिक होलाष्टक का समापन होलिका दहन के दिन हो जाता है। पंचाग के मुताबिक होलिका दहन 28 मार्च को होगा। साथ ही 29 मार्च को होली खेली जाएगी। वहीं फुलेरा दूज 15 मार्च को मनाई जाएगी।

ऐसी धार्मिक मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण राधा के साथ इसी दिन फूलों के साथ होली खेली थी। मथुरा और बृज में होली का महोत्सव बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। वहीं फुलरा दूज का भी विशेष महत्व है।

 

होलाष्टक में नहीं किए जाते हैं शुभ कार्य

पौराणिक मान्यता है कि होलाष्टक के दौरान शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। साथ ही इस दौरा खरमास भी शुरू हो चुके हैं। सूर्य के मीन राशि में प्रवेश के साथ खरमास का आरंभ हो चुका है।

होलाष्टक के बाद 8 दिनों तक शादी विवाह या अन्य शुभ कार्य संपन्न करना अशुभ माना जाता है। साथ ही भूमि, भवन और वाहन आदि की भी खरीदारी को शुभ नहीं माना गया है।

साथ ही यह भी मान्यता है कि होलाष्टक के दौरान पूजा पाठ का विशेष महत्व होता है और इसका पुण्य भी मिलता है। साथ ही ये त्योहार ऐस समय में आता है, जब मौसम में बदलाव होते रहता है, इसलिए अपनी दिनचर्या व खानपान को भी काफी अनुशासित रखना चाहिए।

 

 

 

Advertisements