Looteri Dulhan: चार पतियों को लूट कर पांचवां पति तलाश रही दुल्हन गिरफ्तार

Advertisements

 Looteri Dulhan Indore। महिला थाना पुलिस ने ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है जो बार-बार पति बदल कर ठगी करती है। महिला अभी तक चार पति तो बदल चुकी है जबकि पांचवां पति तलाशने में जुटी थीं। उसके खिलाफ मुंबई, पाली, निम्बाहेड़ा और अहमदाबाद के पतियों ने शिकायत दर्ज करवाई। गिरोह में शामिल महिला के मौसा-मौसी पूर्व में ही गिरफ्तार हो चुके हैं।

महिला थाना टीआइ ज्योति शर्मा के मुताबिक ग्राम मोरखा जिला पाली (राजस्थान) निवासी उम्मेद सिंह पुत्र भोपाल सिंह की शिकायत पर 11 मार्च को आरोपित लक्ष्मी और उसके मौसा राजू सेरोनिया तथा मौसी कमला बाई निवासी गौरी नगर के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया है। उम्मेद सिंह की तमिलनाडु में कास्मेटिक का व्यवसाय करता है। उसने बयानों में बताया कि लक्ष्मी मौसा-मौसी से मिलने के लिए आई और अहमदाबाद के अशोक प्रजापति से दूसरी शादी कर ली। पुलिस ने जब राजू और कमला को गिरफ्तार किया तो बताया कि लक्ष्मी की तीन शादी पूर्व में कर चुके हैं।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट : 616 सेम्पल की रिपोर्ट में सीएमएचओ सहित आधा सैकड़ा नए पॉजीटिव केस

मुंबई निवासी एक युवक से तो आठ साल पूर्व शादी की थी और सात साल की बेटी भी है। पति जब तक रुपये देता है लक्ष्मी ससुराल में रहती है। जैसे ही पति रुपये देना बंद करता है, वह जेवर और नकदी समेटकर भाग जाती है। राजू और कमला की गिरफ्तारी की खबर सुनते ही अहमदाबाद का अशोक भी थाने पहुंच गया। उसने लक्ष्मी को उसकी पत्नी होने का दावा किया और कहा कि वह उसे भी आठ लाख की चपत लगा चुकी है। चार-पांच महीने साथ रही और बगैर बताए भाग आई। टीआइ के मुताबिक लक्ष्मी से पूछताछ चल रही है। जानकारी मिली है कि गिरोह में दलाल भी शामिल है। दलाल ऐसे लोगों को ढूंढते है जिनकी शादी नहीं हो पाती है और रुपये लेकर लक्ष्मी से शादी करवा देते हैं।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट : 616 सेम्पल की रिपोर्ट में सीएमएचओ सहित आधा सैकड़ा नए पॉजीटिव केस

दो पतियों से हुई तीन बेटियों को छोड़ चौथे से कर ली शादी

एसआइ रश्मि पाटीदार के मुताबिक लक्ष्मी की पहली शादी मुंबई के युवक से हुई थी। उससे उसकी सात साल की एक बेटी भी है। उसने पहले पति को भी लाखों की चपत लगाई। इसके बाद निम्बाहेड़ा के एक युवक से शादी कर ठग लिया। तीसरी शादी उम्मेद सिंह से की तो दो बेटियां हुईं। प्रसूति के लिए इंदौर आई और लक्ष्मी दोबारा उम्मेद सिंह के पास नहीं लौटी। बेटियों को छोड़कर अहमदाबाद के अशोक के पास चली गई।

Advertisements