Shani Amavasya 2021: शनि अमावस्या आज, जानिए शुभ मुहूर्त

Advertisements

Shani Amavasya 2021: शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या को शनि अमावस्या कहा जाता है। यह दिन उन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है जो न्याय के देवता शनि की प्रकोप से बचना चाहते हैं या जिनकी कुंडली में शनि की साढ़ेसाती या शनि की ढय्या है। 13 मार्च, शनिवार को फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या है। 12 मार्च को 15:04:32 से अमावस्या आरंभ हुई है, जो 13 मार्च को 15:52:49 बजे तक रहेगी। शनिश्चरी अमावस्या के दिन की गई शनि की आराधना का फल अवश्य मिलता है। पितृ दोष से भी मुक्ति के उपाय किए जाते हैं। इस दिन नदियों में स्नान के साथ ही दान धर्म का विशेष महत्व बताया गया है। इस दिन शनि देव को प्रसन्न कर नौकरी में उन्नति, व्यापार में वृद्धि, घर-परिवार में सुख शांति प्राप्त की जा सकती है। जानिए Shani Amavasya के दिन किए जाने वाले उपायों के बारे में

इसे भी पढ़ें-  शादी से पहले दरवाजे पर आ धमकी प्रेमिका, फिर हुआा ऐसा

Shani Amavasya 2021: क्या करें और क्या न करें

शास्त्रों में उल्लेख है कि इस दिन शनि मंदिर का दर्शन अवश्य करना चाहिए और शनि देव को तेल चढ़ाना चाहिए। शनि अमावस्या के दिन ॐ शं शनैश्चराय नमः का जाप करें और शनि चालीसा का पाठ करें। जिन लोगों की कुंडली में शनि की दशा ठीक नहीं है, वे इस दिन पीपल और शमी के पेड़ की पूजा करें। पीपल के पेड़ के नीचे तेल का दीपक लगाने से जीवन की हर बाधा दूर हो सकती है।

Shani Amavasya के दिन किसी का बुरा न करें। कोई ऐसी बात न करें, जिससे दूसरों का आघात पहुंचे या उनके मन को दुख पहुंचे। किसी के साथ धोखा न करें। आर्थिक लेन-देन पूरी तरह साफ रखें। Shani Amavasya के दिन किसी तरह का नशा न करें।

इसे भी पढ़ें-  Madhya Pradesh BJP: मध्‍य प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक गुरुवार को, वर्चुअल शामिल होंगे पदाधिकारी

Shani Amavasya के दिन शनि मंदिर के साथ ही हनुमान मंदिर में दर्शन अवश्य करें। इस दिन हनुमान चालीसा का पाठ शनि से जुड़ी हर समस्या से बचाता है। शास्त्रों में शनि देव और हनुमाजी को एक दूसरे का परम मित्र बताया गया है। इस दिन गोमाता की सेवा का पूरा फल मिलता है।

Advertisements