खुलासा: स्वीडन की कंपनी ने सात राज्यों में बस सौदों के लिए दी थी रिश्वत, एक मंत्री का भी आया नाम एजेंसी, स्टॉकहोम

Advertisements

स्वीडन की नामी बस-ट्रक निर्माता कंपनी स्कैनिया ने भारत में सात राज्यों में ठेके हासिल करने के लिए 2013 से 2016 के बीच अधिकारियों को भारी रिश्वत दी थी।

स्वीडिश न्यूज चैनल एसवीटी समेत तीन मीडिया संस्थानों ने एक खुफिया जांच के बाद यह दावा किया है। फॉक्सवेगन एजीज की ट्रक एवं बस का निर्माण करने वाली इकाई स्कैनिया ने 2007 में भारत में काम करना शुरू किया था और 2011 में विनिर्माण इकाई की स्थापना हुई।

स्कैनिया से जब इस मुद्दे पर जवाब मांगा गया तो कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, 2017 में कंपनी को कर्मचारियों और शीर्ष प्रबंधन के कामकाज में गंभीर गड़बड़ियां दिखीं, जिसकी जांच कराने पर पता चला कि ये लोग रिश्वतखोरी में लिप्त थे। इसमें कुछ कारोबारी साझेदार भी शामिल थे।

इसे भी पढ़ें-  Vastu Tips: Pumin किचन में रखा जीरा नकारात्मक ऊर्जा को खत्म कर आर्थिक स्थिति को मजबूत करेगा

प्रवक्ता ने बताया कि इसके बाद स्कैनिया ने भारतीय बाजार में बसों की बिक्री पर ही रोक लगा दी थी। स्कैनिया के सीईओ हेनरिक हेनरिक्सन ने कहा, इससे कुछ नुकसान जरूर हुआ लेकिन हमने वहां अपनी इकाई को बंद कर दिया। उन्होंने कहा, भारत में जो भी लोग रिश्वतखोरी में शामिल थे उन्हें कंपनी से निकाल दिया गया और हमारे बिजनेस पाटर्नर्स के करार भी रद्द कर दिए गए।

 

एक मंत्री को भी पहुंची थी रिश्वत
एसवीटी ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया कि एक भारतीय मंत्री को भी स्कैनिया के अधिकारियों ने रिश्वत दी थी। हालांकि इस मंत्री ने इन आरोपों पर कोई जवाब नहीं दिया है।

इसे भी पढ़ें-  India at Tokyo Olympics Live Updates: महिला हॉकी टीम ने द. अफ्रीका को 4-3 से हराया, जानिए क्वार्टर फाइनल में पहुंचने का गणित

चेसिस नंबर बदलकर खनन कंपनियों को बेचे ट्रक
रिपोर्ट में दावा किया गया कि स्कैनिया ने चेसिस नंबर और लाइसेंस प्लेट बदलकर ट्रकों के मॉडल नंबर में हेरफेर किया। इन ट्रकों को भारतीय खनन कंपनियों को बेचा और 1.18 करोड़ डॉलर का मोटा मुनाफा कमाया।

गडकरी के दफ्तर ने कहा- आरोप आधारहीन
विवाद के बाद केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के कार्यालय की तरफ से इस पर बयान जारी किया गया। इसमें कहा गया कि एक मीडिया रिपोर्ट में केंद्रीय मंत्री के बेटे के करीबी की कंपनी को नवंबर 2016 में स्कैनिया कंपनी की तरफ से लग्जरी बस तोहफे में देने की बात कही गई है जो दुर्भावनापूर्ण है। आरोप आधारहीन और मीडिया की कल्पना है।

इसे भी पढ़ें-  पंजाब सीमा पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, BSF ने मार गिराए दो पाकिस्तानी घुसपैठिए

 

Advertisements