इसे भी पढ़ें-  चुनाव में ऐसे उड़ रही कोविड नियमों की धज्जियां? कोरोना वॉर्ड को बना डाला पोलिंग बूथ

शून्यकाल में कांग्रेस के डा. गोविंद सिंह ने 1944 में बनाए गए लोकेंद्र क्लब को बिना सूचना दिए तोड़ने का मामला उठाया। उन्होंने कहा क्लब विधिवत था। वहां नेहरू युवा केंद्र और शासकीय माध्यमिक विद्यालय किराए पर रहे हैं। क्लब में बिलियर्ड की टेबल थी। उस तरह की देश में सिर्फ दो टेबलें हैं। उसे भी तानाशाहीपूर्ण तरीके से ध्वस्त कर दिया। क्लब का अपराध सिर्फ यह है कि विधायक घनश्याम सिंह उसके अध्यक्ष थे।

पूरे प्रदेश में विरोधी विचारधारा के साथियों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। संसदीय कार्य मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के सदस्यों के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा सरकारी भवन पर कब्जा था। उसके एक भी दस्तावेज या रजिस्ट्री बताएं।

इसे भी पढ़ें-  पटना में बड़ा हादसा: पीपा पुल से गंगा में गिरी गाड़ी, नौ शव निकाले गए; करीब आठ लोग अब भी लापता

निजी भूमि पर बने मकान-दुकानों को तोड़ा

 

पूर्व मंत्री बाला बच्चन ने बड़वानी और खरगोन में प्रशासन द्वारा मनमानी करने और निजी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा राजपुर नगर पंचायत में पंचायती बाड़ी में जो दुकानें 10-12 साल पहले बनीं थी, उन्हें नोटिए दिए बगैर तोड़ दिया।