प्रशांत किशोर को एक रुपये तनख्वाह के शगुन के साथ जोड़कर पंजाब में कांग्रेस ने फूंका चुनावी बिगुल सार

Advertisements

बंगाल में ममता दीदी को सलाह देने के बाद अब प्रशांत किशोर पंजाब के मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार के रूप में नजर आएंगे। इसके साथ ही पंजाब में वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए हलचल शुरू हो गई है। ऐसा नहीं है कि प्रशांत किशोर पहली बार पंजाब के चुनावों का सामना करेंगे। इससे पहले 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में उनकी कंपनी आईपीएसी अपनी अहम भूमिका निभा चुकी है।

पंजाब में विधानसभा की 117 सीटें हैं। 2017 में कांग्रेस इनमें से 77 सीटों पर जीत हासिल करने में कामयाब हुई थी। कांग्रेस को यह जीत दिलाने में प्रशांत किशोर ने अहम भूमिका निभाई थी। 2016 में कांग्रेस द्वारा पंजाब के अमरिंदर सिंह के अभियान में मदद करने के लिए प्रशांत को पंजाब विधानसभा चुनाव 2017 के लिए नियुक्त किया गया था। कांग्रेस के लिए लगातार दो विधानसभा चुनाव हारने के बाद पंजाब में चुनाव प्रचार एक चुनौती थी, जिसमें उन्होंने सफलता हासिल की थी। रणदीप सुरजेवाला और शंकर सिंह वाघेला जैसे कई कांग्रेसी नेताओं ने जीत में उनकी भूमिका को अहम बताया था।

इसे भी पढ़ें-  Monkey In School: बंदरों की टोली पहुंची स्कूल, प्रिंसिपल की कुर्सी पर किया कब्जा, देखें Video

यही कारण है कि आज जब उन्हें मुख्यमंत्री ने अपने साथ जोड़ा तो खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। कैप्टन ने ट्वीट किया है कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि प्रशांत किशोर प्रधान सलाहकार के रूप में मेरे साथ जुड़ गए हैं। पंजाब के लोगों की भलाई के लिए हम एक साथ काम करने के लिए तैयार हैं। उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक प्रशांत किशोर का वेतन एक रुपये होगा।

 

 

 

पंजाब में कांग्रेस किसी भी हाल में किले को बचाना चाहती है। उनकी इस उम्मीद को पंजाब निकाय चुनाव के परिणामों ने और बढ़ा दिया है। ऐसे में वो भारतीय जनता पार्टी, अकाली दल और आम आदमी पार्टी को किसी भी तरह का मौका देना नहीं चाहती है। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रशांत किशोर के साथ कार्यकर्ताओं को मैदान में उतारने के लिए कांग्रेस ने अभी से कमर कस ली है।

Advertisements