भारतीय तट रक्षकों ने समुद्र में डूब रहे 81रोहिंग्या को बचाया

Advertisements

भारतीय तटरक्षक ने 81 रोहिंग्या को अंडमान सागर में डूबने से बचा लिया। भारतीय विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। हालांकि आठ रोहिंग्या की मौत हो गई। हालांकि उन्हें भारत में प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने गुरुवार को रेस्क्यू की खबर देते हुए कहा कि एक शरणार्थी लापता है।

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी ने इस हफ्ते की शुरुआत में लापता नाव को लेकर अलर्ट किया था, जो बांग्लादेश के कॉक्स बाजार से 11 फरवरी को रवाना हुई थी। आपको बता दें कि यहां पड़ोसी म्यांमार से भागे सैकड़ों रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए शरणार्थी शिविर स्थापित किए गए हैं।

श्रीवास्तव ने कहा कि समुद्र में चार दिनों के बाद नाव का इंजन फेल हो गया। जहाज पर सवार लोग भोजन और पानी की किल्लत से जूझने लगे। जब तक उन्हें बचाया गया तब तक कई बीमार थे। उन्होंने कहा कि शरणार्थियों की मदद के लिए दो भारतीय तट रक्षक जहाज भेजे गए थे। शरणार्थियों में 23 बच्चे शामिल थे। भारत सरकार उनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए बांग्लादेश के साथ चर्चा कर रही है।

भारत 1951 के शरणार्थी सम्मेलन का हस्ताक्षरकर्ता नहीं है, जो शरणार्थी अधिकारों और उनकी रक्षा के लिए राज्य की जिम्मेदारियों को बताता है। म्यांमार के कुछ रोहिंग्या सहित वर्तमान में 2,00,000 से अधिक शरणार्थियों की रक्षा के लिए इसके पास घरेलू कानून नहीं है।

2017 में म्यांमार में सुरक्षा बलों द्वारा एक घातक हमले के बाद हजारों रोहिंग्या बांग्लादेश भाग गए। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने कहा।, “बांग्लादेश UNCLOS (समुद्र के कानून पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन) के तहत अपने अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों का सम्मान करता है।”

बयान में कहा गया है कि नाव को बांग्लादेश से लगभग 1,700 किलोमीटर और भारत से 147 किलोमीटर दूर खोजा गया। मंत्रालय ने कहा, “अन्य राज्य, विशेष रूप से जिनके क्षेत्रीय जल पर पोत पाया गया है, प्राथमिक जिम्मेदारी वहन करते हैं और उन्हें अंतरराष्ट्रीय कानून और बोझ-साझाकरण सिद्धांत के तहत अपने दायित्व को पूरा करना चाहिए।”

Advertisements