बुजुर्गों को वैक्सीनेशन के लिए सिर्फ आधार कार्ड दिखाना होगा, ऑन द स्पॉट भी रजिस्ट्रेशन होगा

Advertisements

Corona देश में कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा फेज 1 मार्च से शुरू होगा। 10 हजार सरकारी केंद्रों और 20 हजार निजी अस्पतालों में टीका लगाया जाएगा। इसमें 45 साल से ऊपर के बीमार लोगों और 60 साल से ज्यादा के सभी लोगों का वैक्सीनेशन होगा। अगर इस एज ग्रुप के लोग सरकारी केंद्रों में जाते हैं तो उनके लिए टीका मुफ्त होगा, लेकिन निजी अस्पतालों में उन्हें पैसे देना होगा। केंद्र सरकार के सूत्रों के अनुसार, प्राइवेट अस्पताल वैक्सीन ड्राइव के दौरान ऑपरेशनल फी के तौर पर 100 रुपए तक चार्ज कर सकते हैं। हालांकि, अभी तक प्राइवेट अस्पतालों के वैक्सीन का रेट तय नहीं किया गया है।

एंपॉवर्ड ग्रुप के चेयरमैन आरएस शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए किसी अतिरिक्त दस्तावेज की जरूरत नहीं है। उन्हें आधार कार्ड के जरिए अपनी पहचान साबित करनी होगी। 45 से 60 साल तक के लोगों को अपनी बीमारी का सर्टिफिकेट दिखाना होगा। जिन लोगों के पास इंटरनेट नहीं है, उनके लिए ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन का विकल्प रहेगा। टीका लगवाने वालों को-विन प्लेटफॉर्म पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

इसे भी पढ़ें-  बदायूं में एक और ऑनरकिलिंग: थाने से चंद कदम दूर भाइयों ने काटा बहन का गला, हाईकोर्ट से मांगी थी सुरक्षा

2 दिन वैक्सीनेशन पर रोक
देशभर में अगले 2 दिन यानी 27 और 28 फरवरी को वैक्सीनेशन पर रोक लगी रहेगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि इन 2 दिनों में Co-Win मोबाइल ऐप को आम लोगों के लिए अपडेट किया जाएगा। इसी मोबाइल ऐप के जरिए आम लोग वैक्सीनेशन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। अभी तक इस ऐप के जरिए केवल हेल्थ केयर और फ्रंट लाइन वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन हो रहा था। इस ऐप पर वैक्सीन लगवाने वाले सभी लोगों का पूरा डेटा मौजूद होता है। ऐप के जरिए लोगों को सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, शुक्रवार 6 बजे तक देश में कोरोना वैक्सीन के 1.37 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं। अब तक 88.41 लाख हेल्थकेयर वर्कर्स को वैक्सीन लगाई गई है। 66.37 लाख स्वास्थ्यकर्मियों को पहला और 22.04 लाख को दूसरा डोज दिया गया है। 49.15 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाई गई है।

इसे भी पढ़ें-  OBC Reservation: मेडिकल एडमिशन : ऑल इंडिया कोटे में ओबीसी को 27 व ईडब्ल्यूएस को 10 फीसदी आरक्षण पर मोदी सरकार की मुहर, इसी सत्र से लागू होगा फैसला

18 राज्यों में फैला कोरोना का नया स्ट्रेन
देश के 18 राज्यों में कोरोना का नया स्ट्रेन फैल गया है। ये स्ट्रेन यूके, साउथ अफ्रीका और ब्राजील से आए हैं। इसके अब तक 194 मामले सामने आ चुके हैं। केद्र सरकार ने देश में बढ़ते मामलों को देखते हुए इन सभी 18 राज्यों की निगरानी शुरू कर दी है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) ने इन राज्यों से नए स्ट्रेन से जुड़े मरीजों की जानकारी और उनके संपर्क में आने वाले लोगों के बारे में पूछा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन 194 लोगों में से 187 लोगों में यूके का वैरिएंट मिला है। 6 साउथ अफ्रीकन और एक ब्राजीलियन स्ट्रेन है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन राज्यों को इंटरनेशनल पैसेंजर्स की मॉनिटरिंग बढ़ाने को भी कहा है। इनमें महाराष्ट्र, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, पंजाब जैसे राज्य शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें-  Jammu Kashmir Cloudburst: किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

24 घंटे में 16 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले
शुक्रवार को देश में 16 हजार 916 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। 11 हजार 623 लोग रिकवर हुए और 89 की मौत हो गई। अब तक 1 करोड़ 10 लाख 77 हजार 991 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 1 करोड़ 7 लाख 60 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। 1 लाख 56 हजार 950 मरीज ऐसे हैं जिनकी मौत हो गई। 1 लाख 56 हजार 69 मरीजों का अभी इलाज चल रहा है।

Advertisements