खुदकुशी:उज्जैन में 60 साल के वृद्ध ने रजाई को पेट्रोल से भिगोया, ओढ़कर आग लगा ली, इलाज के दौरान मौत

Advertisements

उज्जैन से करीब 50 किमी दूर बरखेड़ा गांव में एक 60 साल के बुजुर्ग ने पेट्रोल से भीगी रजाई ओढ़कर आग लगा ली। आग से बुजुर्ग बुरी तरह झुलस गया। आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। परिजनों के मुताबिक बुजुर्ग की मानसिक हालत ठीक नहीं थी।

मामला झारड़ा थाना क्षेत्र का है। बरखेड़ा निवासी सिद्धूलाल (60) का परिवार गुरुवार की रात रोज की तरह खाना खाकर सो रहा था। रात करीब 11.30 बजे घर में धुएं से दम घुटने का एहसास होने पर बेटे राधेश्याम, जितेंद्र और बहू की आंख खुली। उन्होंने देखा कि जिस कमरे में सिद्धुलाल सो रहे थे, वहीं से धुआं निकल रहा था। कमरे से रोशनी भी आ रही थी। परिजन भाग कर पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। सिद्धूलाल का बिस्तर और रजाई आग की चपेट में था। वह भी बुरी तरह से झुलस चुके थे।

परिजनों ने आनन-फानन में पानी डालकर आग बुझाई और उन्हें महिदपुर अस्पताल ले जाया गया। वहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। फिर जिला अस्पताल में शुक्रवार को उनकी मौत हो गई।

गांव के चौकीदार ने बताया- घर के बाहर खड़ी बाइक से निकाला पेट्रोल

बरखेड़ा के चौकीदार बद्रीलाल ने बताया कि परिजनों के मुताबिक सिद्धूलाल की मानसिक हालत ठीक नहीं थी। उनका उज्जैन से इलाज चल रहा था। गुरुवार रात नौ बजे वह गांव में घूम रहे थे। रात करीब 11.30 बजे आग लगा ली। परिजनों ने बताया कि घर के बाहर खड़ी बाइक से सिद्धूलाल ने पेट्रोल निकाला। उसे रजाई पर छिड़का। उसके बाद रजाई में आग लगा ली और खुद ओढ़कर सो गए। घरवालों को जब तक पता चलता तब वह आग से वह बुरी तरह झुलस चुके थे।

Advertisements