Laghu udyog: कमीशनखोरी के लिए बदनाम लघु उद्योग निगम बंद करेगी सरकार

Advertisements

Bhopal News: भोपाल। कमीशनखोरी के लिए बदनाम लघु उद्योग निगम (एलयूएन) को सरकार बंद करेगी। इसकी प्रक्रिया शुरू हो गई है। सरकार ने कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) का विकल्प दिया है और करीब 55 अधिकारियों-कर्मचारियों ने आवेदन भी कर दिया है। अब सरकार को निगम बंद करने की विधिवत घोषणा भर करना है। 15 साल में यह छठी संस्था है, जिसे बंद किया जा रहा है।

निगम 1961 में दूसरे विभागों के लिए उपकरण एवं अधोसंरचना का सामान खरीदने के लिए गठित हुआ था। इसके बदले निगम को कमीशन मिलता है, पर दो साल पहले इसी काम के लिए केंद्र सरकार का जेएम पोर्टल आने के कारण निगम का कामकाज सीमित हो गया और महज 70 करोड़ रुपये का काम मिला। इसे देख सरकार ने निगम को बंद करने का निर्णय ले लिया, क्योंकि निगम में 300 कर्मचारियों को वेतन देना पड़ रहा था।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 2017 में अनियमितताओं की शिकायत के चलते निगम को बंद करने के निर्देश दिए थे, इसका प्रस्ताव तैयार किया जा रहा था, तभी सत्ता परिवर्तन हो गया और कमल नाथ सरकार आने से निगम को संजीवनी मिल गई, पर सवा साल में फिर सत्ता परिवर्तन हो गया और शिवराज सरकार ने अपने निर्णय पर काम शुरू कर दिया।

एम्पोरियम हस्तशिल्प विकास निगम के हवाले

एलयूएन बंद होने के बाद उसकी संस्था मृगनयनी एम्पोरियम को हस्तशिल्प विकास निगम संचालित करेगा। इसकी भी तैयारी चल रही है। अधिकारी विचार कर चुके हैं। सरकार के स्तर पर निर्णय लिया जाना है।

15 साल में बंद संस्थाएं

सरकार 15 साल में तिलहन संघ, बुनकर सहकारी संघ, राज्य परिवहन निगम, भूमि विकास बैंक और कु क्कुट महासंघ को बंद कर चुकी है।

Advertisements