Republic Day 2021 LIVE Update: राजपथ पर दुनिया देखेगी भारत की ताकत, राफेल होगा मुख्य आकर्षण

Advertisements

नई दिल्ली। देश पूरे उमंग और उत्साह के साथ आज 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस अवसर पर राजपथ पर ऐतिहासिक परेड निकलेगी, जिसमें पूरी दुनिया भारत की सांस्कृतिक विरासत और सैन्य ताकत की झलक देखेगी। इस बार का परेड कई मायनों में खास होने वाला है। राफेल लड़ाकू विमान इसका मुख्य आकर्षण होगा। गणतंत्र दिवस पर सशस्त्र बलों की झांकी के अलावा, 17 झांकियां विभिन्न राज्यों की होंगी। केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों / विभागों की नौ झांकियां और अर्धसैनिक बलों और रक्षा मंत्रालय की छह झांकियां होंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जाएंगे और वहां देश के लिए बलिदान देने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। इसके बाद वह राजपथ जाएंगे और परेड का गवाह बनेंगे। परंपरा के अनुसार झंडा फहराने के बाद राष्ट्रगान होगा और 21 तोपों की सलामी दी जाएगी। फिर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सलामी लेंगे। इसके बाद परेड की शुरुआत होगी। बता दें कि इस बार परेड में कोई मुख्य अतिथि नहीं होगा। कोरोना महामारी के कारण ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने अपनी यात्रा रद कर दी है। इससे पहले 1952, 1953 और 1966 में भी गणतंत्र दिवस परेड के लिए कोई मुख्य अतिथि नहीं था।

दिल्ली में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर दिल्ली में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। पूरी राजधानी अभेद्य किले में तब्दील हो गई है। जमीन से लेकर आसमान तक कड़ा पहरा है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व पैरा मिलिट्री तैनात है। सोमवार रात 12 बजे से ही दिल्ली की सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं। इंट्री उन्हें ही मिलेगी, जिन्हें अति आवश्यक काम होगा।

बांग्लादेश सैन्य बल की 122 सदस्यीय टुकड़ी भी नजर आएगी

बांग्लादेश सैन्य बल की 122 सदस्यीय टुकड़ी भी राजपथ पर नजर आएगी। यह टुकड़ी बांग्लादेश के मुक्ति योद्धाओं की विरासत को आगे बढ़ाएगी, जिन्होंने दमन व अत्याचार के खिलाफ लड़ते हुए बांग्लादेश को 1971 में आजादी दिलाई थी। 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर जीत के उपलक्ष्य में स्वर्णिम विजय वर्ष मना रहा है। इस युद्ध के बाद ही बांग्लादेश अस्तित्व में आया था।

1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान नौसैन्य अभियान की झांकी प्रस्तुत करेगी नौसेना

परेड के दौरान थल सेना की ब्रह्मोस मिसाइल की मोबाइल प्रक्षेपण प्रणाली, जंगी टैंक टी-90 भीष्म, इनफैन्ट्री कॉम्बैट वाहन बीएमपी-दो सरथ और रॉकेट सिस्टम पिनाका समेत अन्य अपना दमखम दिखाएंगी। वहीं नौसेना आइएनएस विक्रांत और 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान नौसैन्य अभियान की झांकी प्रस्तुत करेगी। वायुसेना हल्के लड़ाकू विमान तेजसऔर टैंक रोधी मिसाइल ध्रुवास्त्र पर पेशकश दिखाएगी। राफेल के अलावा वायु सेना के 38 और थल सेना के चार विमान परेड में हिस्सा लेंगे।

क्या देखने को मिलेगा पहली बार

राफेल लड़ाकू विमानों द्वारा फ्लाईपास्ट के अलावा राजपथ पर इस बार कोरोना वैक्सीन की झांकी दिखाई जाएगी। लद्दाख की झांकी भी पहली बार देखने को मिलेगी। इसके अलावा भावना कांत गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट होंगी। अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह में तैनात सैनिकों की भागीदारी भी लोगों को काफी रोमांचित करेंगी।

कोरोना के कारण बहुत चीजें देखने को नहीं मिलेंगी

कोरोना के मद्देनजर शारीरिक दूरी के नियमों का पालन सुनिश्चित किया गया है। थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजर और फेस मास्क की भी व्यवस्था की गई है। इसके चलते केवल 25,000 लोगों को राजपथ पर समारोह देखने के लिए आने की अनुमति दी गई है। आम तौर पर हर साल होने वाले इस आयोजन में एक लाख से अधिक दर्शक शामिल होते हैं। इस साल परेड भी छोटी होगी। लाल किले तक मार्च करने के बजाय राष्ट्रीय स्टेडियम में परेड समाप्त होगी। लाल किले तक केवल झांकियों के जाने की अनुमति होगी। मोटरसाइकिल स्टंट भी देखने को नहीं मिलेगा।

Advertisements