वित्त मंत्री ने हलवा सेरेमनी के दिन लॉन्च किया ‘बजट’ के लिए मोबाइल ऐप

Advertisements

वित्त मंत्रालय द्वारा शनिवार को परंपरागत तरीके से हलवा सेरेमनी का आयोजन किया गया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हलवा सेरेमनी के दिन ‘यूनियन बजट मोबाइल ऐप’ लॉन्च किया।

इस ऐप कि जरिये सांसद और आम जनता बजट के दस्तावेजों को देख पाएंगे। मोबाइल ऐप में 14 केंद्रीय बजट दस्तावेज होंगे जिसमें वार्षिक वित्तीय विवरण, अनुदान की मांग, फाइनेंस बिल आदि होंगे। वित्त मंत्री 1 फरवरी  को बजट पेश करेंगी।

‘यूनियन बजट मोबाइल ऐप’ में डाउनलोड, प्रिंट, सर्च, जूम इन और आउट, स्क्रॉलिंग आदि लिंक होंगे। ये ऐप एनआईसी ने बनाया है। इसमें हिंदी और अंग्रेजी भाषा की सुविधा होगी। इस मोबाइल ऐप पर बजट भाषण खत्म होने के बाद  बजट के दस्तावेज उपलब्ध होंगे।

बजट दस्तावेजों के संकलन की प्रक्रिया शनिवार को पारंपरिक हलवा समारोह के आयोजन के साथ शुरू हो गयी।

इस समारोह में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर और वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। हलवा समारोह में वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय, आर्थिक मामलों के सचिव तरुण बजाज, वित्तीय सेवा सचिव देबाशीष पांडा, दीपम के सचिव तुहिन कांत पांडे, व्यय सचिव टीवी सोमनाथन, मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यन और बजट की तैयारी व संकलन की प्रक्रिया में शामिल अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

 

इस बार नहीं छपेगा बजट
कोरोना महामारी के चलते इस बार हमेशा की तरह बजट दस्तावेजों की छपाई नहीं होगी। इसके बजाय इस बार सांसदों को बजट दस्तावेज डिजिटल स्वरूप में दिये जायेंगे। इससे पहले हर साल हलवा समारोह के आयोजन से बजट दस्तावेजों का प्रकाशन शुरू होता था। यह पहली बार होगा, जब बजट दस्तावेजों का प्रकाशन नहीं होगा। वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि एक अभूतपूर्व पहल के तहत केंद्रीय बजट 2021-22 पहली बार डिजिटल तरीके से लोगों को मिलेगा। बजट एक फरवरी को पेश होने वाला है। बयान में कहा गया कि वित्त मंत्री ने बाद में केंद्रीय बजट 2021-22 के संकलन की स्थिति की समीक्षा की और संबंधित अधिकारियों को शुभकामनाएं दीं।

दो भागों में बांटा गया बजट सत्र
मंगलवार को लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया कि इस बार का बजट दो अलग-अलग हिस्सों में बांटा गया है। पहला सत्र 29 जनवरी से 15 फरवरी तक चलेगा जबकि दूसरा सत्र 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा। सभी सांसदों को कोरोना टेस्ट करवाना अनिवार्य रहेगा।

 

 

 

 

 

Advertisements