शिवराज की प्रशासनिक सख्ती पर कांग्रेस ने उठाये सवाल, कसा तंज

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गत दिवस कमिश्नर-कलेक्टर कॉन्फ्रेस में जिलों की समीक्षा करते हुए प्रदेश को माफिया मुक्त बनाने के निर्देश दिये थे। इस दौरान उन्होंने ग्वालियर नगर निगम के कमिश्नर संदीप माकन और कटनी पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार को फटकार लगाई थी। इसके बाद राज्य शासन द्वारा दोनों अधिकारियों का तबादला कर दिया गया। सोमवार देर रात इस संबंध में आदेश जारी कर दिये गये। इससे पहले पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक समीक्षा के दौरान नीमच पुलिस अधीक्षक और कटनी कलेक्टर को हटाया था।

समीक्षा बैठक के दौरान ग्वालयिर नगर निगम आयुक्त संदीप माकन को मुख्यमंत्री ने सफाई व्यवस्था को लेकर फटकार लगाते हुए कहा था कि अब इनकी छुट्टी कर दो।

इसके बाद राज्य शासन ने उनका तबादला कर दिया। उन्हें भोपाल में मंत्रालय में पदस्थ किया गया है। वहीं, कमलनाथ सरकार में 4 जून 2019 में कटनी ट्रांसफर किये गये पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार को करीब डेढ़ वर्ष के कार्यकाल के बाद हटा दिया गया। उन्हें पुलिस मुख्यालय में सहायक महानिरीक्षक पदस्थ किया गया है। उन्हें 01 जनवरी 2021 को ही उन्हें बतौर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पदोन्नति मिली थी। दरअसल आरोप था कि जिले में जिस तरह से अवैध खनन रोकने में वे कमजोर साबित हुए। इसी को लेकर मुख्यमंत्री ने उन्हें हटाने के निर्देश दिये थे।

तो दूसरी ओर मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद इन दोनों अधिकारियों पर की गई कार्यवाही को लेकर कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मंत्री व मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा है कि मुख्यमंत्री को हेडलाइन में छपने का शौक चढ़ गया है, ताकि वह हर रोज मीडिया में छाए रहे। जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को हर रोज एक नई हेडलाइन बनाने का शौक है, ताकि वो प्रतिदिन मीडिया में छाए रहे। कभी मुख्यमंत्री जी कहते है तोड़ दो, फिर अगले दिन कहते है ठोक दो, किसी दिन कहते है गाड़ दो और किसी दिन कहते है भाग जाओ। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी कहते है कि एक भी मध्य प्रदेश में नही रहेगा टाँग दो क्या ये मुख्यमंत्री की भाषा है ?, क्या कभी कमलनाथ जी ने अपनी सरकार में ऐसा कोई बयान दिया।

उन्होंने कहा कि भाजपा के 15 साल की सरकार में जिस तरीके की कई घटनाएं घटी इसका जिम्मेदार कौन है ? एक तरफ अवैध खनन के मामले में मुख्यमंत्री जी ने कटनी के पुलिस अधीक्षक को तत्काल प्रभाव से हटा दिया, वही दूसरी तरफ बिना नम्बरों वाली रेत की गाड़ियां बड़े आराम से बुधनी और सीहोर से निकल रही है। आखिरकार मुख्यमंत्री दो अलग आंखों से क्यों देख रहे है। ऐसे अलग-अलग व्यवहार एक साथ कैसे कर रहे है। होशंगाबाद में नर्मदा नदी पर मशीनें लगवाकर रेत की खुदाई करवाई जा रही है, वही कलेक्टर के गोलमोल जवाब देने भर से उसको हटा दिया गया। पटवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज मेरे भी मुख्यमंत्री हैं, मैं उनसे ये आग्रह करता हूँ कि वो खूब हैडलाइन बनाए और वाह वाही लुटे मगर सही तरीके से काम भी करें। एक तरफ भ्रष्ट्राचार नही होने का दावा कर रहे, वही दूसरी तरफ खूब भ्रष्ट्राचार की खबरें आ रही है।