हैरत में पड़े लोग जब गाय ने ढूंढ निकाली मंदिर से चोरी हुई भगवान कृष्ण की मूर्ति

मुरैना । दिमनी क्षेत्र बरेथा गांव स्थिति प्रसिद्ध जग्गाजी मंदिर से चोरी हुई भगवान कृष्ण की मूर्ति तीसरे दिन बुधवार को एक गाय ने ढूंढ निकाली। भगवान कृष्ण की मूर्ति मंदिर से डेढ़ किलोमीटर दूर एक खेत में बने बाजरे के ढेर में मिली है। अब डॉग स्क्वाड की मदद से पुलिस मूर्ति चोर तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। दूसरी तरफ मूर्ति मिलने के बाद तीन दिन से नाराज बरेथा गांव के लोगों का गुस्सा भी शांत हुआ। गाय यहां चर रही थी, इसी दौरान जब ग्रामीण ने उसे हटाने के प्रयास किया तो गाय ने बाजरे के ढेर को मुंह से खींचकर हटा दिया और नीचे मूर्ति मिली।

गौरतलब है, कि बरेथा गांव के 500 साल से ज्यादा पुराने राधा-कृष्ण जग्गाजी मंदिर से शनिवार-रविवार की रात भगवान कृष्ण की मूर्ति चोरी हो गई थी। मंदिर के महंत रामदासजी महाराज रात 1 बजे एक जागरण व भजन कार्यक्रम से लौटकर आए तब उन्हें मंदिर के गर्भगृह के पट खुले मिले। अंदर देखने पर भगवान कृष्ण की मूर्ति गायब मिली। मूर्ति को ढूंढने के लिए पहले ग्रामीणों ने पंचायत बुलाई। देर शाम तक कोई चोर सामने नहीं आया ना ही मूर्ति का पता चला, तो ग्रामीणों ने मूर्ति चोरी का मामला दिमनी थाने में दर्ज करवाया। दो दिन से पुलिस मूर्ति चोरी की तलाश में आसपास के क्षेत्रों में दबिश दे रही थी, लेकिन सफलता नहीं मिली। बुधवार की सुबह 13 साल का एक बच्चा भागते-भागते हुए मंदिर आया और महंत रामदासजी महाराज को बताया कि भगवान कृष्ण की मूर्ति रामस्वरूप बघेल के खेत में बाजरे की करव के बीच पड़ी है। इसके बाद मंदिर के महंत, ग्रामीणों को लेकर मंदिर से करीब डेढ़ किमी दूर उस खेत में पहुंचे, जहां भगवान कृष्ण की मूर्ति मिली।

बताया गया है कि रोज सुबह कुछ ग्रामीण यहां गाय चराने आते थे। बुधवार की सुबह एक गाय चरते-चरते रामस्वरूप बघेल के खेत में बने (घोंपा) बाजरे की करव के ढेर में पहुंच गई। गाय चरा रहे बालक ने गाय को करव से दूर करने का प्रयास किया तभी गाय के मुंह में करव की एक पूरी खिंची चली गई। इसी पूरी के नीचे भगवान कृष्ण की मूर्ति मिली है। दिमनी थाना प्रभारी शिवकुमार शर्मा ने बताया कि मूर्ति चोर तक पहुंचने के लिए डॉग स्क्वाड की मदद ली जा रही है। पुलिस का दावा है कि वो जल्द ही चोर तक पहुंच जाएंगे।