नए साल में केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स के लिए बड़ी खुशखबरी, चार प्रतिशत बढ़ेगा महंगाई भत्ता

Advertisements

नए साल में केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स के लिए बड़ी खुशखबरी है. उन्हें 2021 में महंगाई भत्ता चार प्रतिशत बढ़कर मिलने की उम्मीद है. कर्मचारियों और पेंशनर्स को मौजूदा समय तक जुलाई 2020 से सात प्रतिशत का महंगाई भत्ता दिया जा रहा है. लेकिन, वह अभी नहीं मिल पा रहा है. केंद्रस सरकार की तरफ से अब महंगाई भत्ते में जनवरी 2021 में चार प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना है, जिससे देशभर के करीब डेढ़ करोड़ केंद्रीय कर्मचारी व पेंशनर्स को लाभ मिलेगा. यह लाभ विभिन्न राज्य सरकार के कर्मचारियों व पेंशनरों को भी मिलेगा.

बता दें कि केंद्र सरकार के श्रम मंत्रालय की ओर से लेबर ब्यूरो शिमला की ओर से हर माह महंगाई का औसत निकालकर सूचकांक जारी किया जाता है और उसी के आधार पर केंद्र सरकार के कर्मचारियों व पेंशनर्स का साल में दो बार जनवरी व जुलाई माह में महंगाई भत्ता तय किया जाता है.

उसी के आधार पर केंद्र सरकार के कर्मचारियों व पेंशनर्स का साल में दो बार जनवरी व जुलाई माह में महंगाई भत्ता तय किया जाता है। यह महंगाई भत्ता पिछले 12 माह के औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर तय होता है। इसके आधार पर पिछले 12 माह के औसत पर गणना की जाती है।

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक जारी : हरिशंकर तिवारी अध्यक्ष सिटीजन ब्रदरहुड व पूर्व अध्यक्ष एजी ब्रदरहुड प्रयागराज बताते हैं कि नवंबर 2020 उपभोक्ता मूल्य सूचकांक जारी हो गया है। यदि दिसंबर माह के सूचकांक में कोई वृद्धि या कमी नहीं होती तो 12 माह का औसत सूचकांक 335.25 रहेगा। इस आधार पर एक जनवरी 2021 से कुल 28 प्रतिशत महंगाई भत्ता बनता है, जबकि इसके पूर्व जुलाई 2020 से 24 प्रतिशत महंगाई भत्ता देय हो चुका है। ऐसी स्थिति में एक जनवरी 2021 से शुद्ध महंगाई भत्ते चार प्रतिशत की बढ़ोतरी होगी।

सात प्रतिशत महंगाई भत्ता पहले ही देय : हरिशंकर तिवारी ने बताया कि एक जनवरी 2020 से चार प्रतिशत व एक जुलाई 2020 से तीन प्रतिशत मिलाकर कुल सात प्रतिशत महंगाई भत्ता पहले ही देय हो चुका है। लेकिन, केंद्र सरकार ने उसे अभी नहीं दिया। न ही जनवरी 2021 से संभावित चार प्रतिशत की बढ़ोतरी अभी मिलेगा। सरकारी निर्णय के अनुसार तीनों किश्तें अर्थात सात प्रतिशत पुराना व चार प्रतिशत जनवरी 2021 को जोड़कर 11 प्रतिशत महंगाई जुलाई से मिलने से मिलने की उम्मीद है। जुलाई से मिलने वाले महंगाई भत्ता में 11 प्रतिशत पिछला भी जोड़ा जाएगा। लेकिन, एक जनवरी 2020 से 30 जून 2021 तक का एरियर नहीं दिया जाएगा।

इसलिए बढ़ेगा चार प्रतिशत : हरिशंकर बताते हैं कि यदि आधार वर्ष 2001 के अनुसार दिसंबर 2020 के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में आठ अंकों की कमी होती तो महंगाई तीन प्रतिशत और सूचकांक में 24 अंकों की वृद्धि होने पर महंगाई भत्ता पांच प्रतिशत देय होगा। लेकिन, किसी एक माह में इतनी कमी या वृद्धि संभव नहीं है। अत: महंगाई भत्ता चार प्रतिशत ही देय होगा। बताया कि दिसंबर 2020 का सूचकांक एक माह बाद जारी होगा। सितंबर 2020 से औद्योगिक श्रमिकों के लिए 2016 का नया आधार वर्ष लागू किया गया है। नए आधार पर जारी सूचकांक में 2.88 से गुणा करके पुराने सूचकांक में बदलकर महंगाई भत्ता की गणना की जाती है। इस महंगाई भत्ता से केंद्र सरकार के कर्मचारी व पेंशनर तथा यूपी सहित विभिन्न राज्यों के कर्मचारी व पेंशनर लाभांवित होते हैं।

Advertisements