CM की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली योजना में लेखा प्रबंधक की लापरवाही, कलेक्टर ने लिया संज्ञान

Advertisements

जबलपुर । मुख्यमंत्री की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली प्रसूति सहायता योजना समेत अन्य योजनाओं के भुगतान में लापरवाही सामने आने पर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने एनएचएम की जिला लेखा प्रबंधक की संविदा सेवा समाप्त करने के संकेत दिए हैं।

सोमवार को समय सीमा बैठक के दौरान कलेक्टर ने प्रसूति सहायता योजना में हितग्राहियों को समय पर प्रोत्साहन राशि का भुगतान न किए जाने पर नाराजगी जताई। सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों में भी जिला लेखा प्रबंधक श्रद्धा ताम्रकार का लापरवाह रवैया सामने आया। बैठक के दौरान प्रसूति सहायता योजना के अंतर्गत राशि का भुगतान करने, पदीय दायित्वों के निर्वहन में कोताही व सीएम हेल्प लाइन प्रकरण के निपटारे में लारवाही बरतने के सवाल पर लेखा प्रबंधक ने चुप्पी साध ली।

मेडिकल में 89 हितग्राही योजना के लाभ से वंचित: मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जननी सुरक्षा योजना के 89 हितग्राहियों को प्रोत्साहन राशि का भुगतान नहीं हो पाया है। समय सीमा बैठक में कलेक्टर ने भुगतान रोके जाने का कारण पूछा तो श्रद्धा ताम्रकार संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाई। कलेक्टर ने कहा कि लेखा प्रबंधक को पद से हटाने के लिए भोपाल से पत्राचार किया जा रहा है। लापरवाही के कारण सीएम हेल्प लाइन के प्रकरणों का निपटारा नहीं हो पा रहा है। स्वास्थ्य की कई योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा है।

स्वयं के लाभ के लिए भुगतान रोकने का संदेह: उन्होंने दो टूक कहा कि स्वयं के लाभ के लिए भुगतान पर रोक लगाने का संदेह होता है। सोमवार शाम तक सीएम हेल्प लाइन की शिकायतों का निराकरण न होने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। विदित हो कि जिला लेखा प्रबंधक के कामकाज पर लंबे समय से सवाल खड़े किए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग में लाखों रुपये के बिलों का भुगतान अटक गया है।

Advertisements