22 साल बाद शीतकाल में खुली रहेगी भारत-चीन सीमा पर स्थित बुगड़ियार चौकी

Advertisements

भारत-चीन सीमा की सुरक्षा के लिए उच्च हिमालयी क्षेत्रों में आईटीबीपी ने पांच चौकियां स्थापित की हैं। इनमें से एक चौकी बुगड़ियार को पिछले साल तक शीतकाल में लीलम शिफ्ट किया जाता था। लेकिन इस बार शीतकाल में भी चौकी खुली रहेगी। सूत्रों के मुताबिक आईटीबीपी ने यह फैसला लिया है। जानकारी के मुताबिक 22 सालों में यह पहला मौका होगा जब चौकी में 25 से अधिक जवान बर्फबारी व माइनस 10 डिग्री तापमान में भी सीमा सुरक्षा में मुश्तैद रहेंगे। यह देश के लिए गौरव की बात है। हालांकि इस मामले की सेना की तरफ से आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

इसे भी पढ़ें-  Coronavirus MP News: वेंटिलेटरयुक्त एंबुलेंस का किराया 25 रुपये प्रति किलोमीटर तय

वर्ष 1989 में 6 से अधिक जवानों की ग्लेशियर में दबने से हुई थी मौत
2800 मीटर ऊंचाई पर स्थित बुगड़ियार चौकी में वर्ष 1989 से पहले भी शीतकाल में जवानों की तैनाती होती थी। लेकिन तब घटी एक घटना के बाद चौकी को शीतकाल में बंद करना पड़ा था। 22 वर्ष पहले हिमस्खलन से चौकी तबाह होने से 6जवानों की बर्फ में दबकर मौत हो गई थी। जिसके बाद शीतकाल में नवंबर से अप्रैल माह तक चौकी लीलम शिफ्ट होती रही है।

पिछले साल हिमस्खलन से सेना के तीन भवन दबे
बर्फबारी का मौसम बुगड़ियार चौकी में तैनात जवानों के लिए हमेशा ही चुनौती खड़ी करते रहा है। बावजूद इसके इन जवानों का हौसला कम नहीं होता। पिछले वर्ष भी इसी चौकी में ग्लेशियर टूटने से आईटीबीपी के 3भवन बर्फ में दब गए थे। हालांकि घटना के समय चौकी में तैनात जवानों को लीलम में शिफ्ट किया गया था।

Advertisements