जबलपुर रेल मंडल में जल्द चलेंगी पैसेंजर ट्रेन

Advertisements

जबलपुर।  रेल उपभोगकर्ता सलाहकार समिति (डीआरयूसीसी) के सदस्यों की ऑनलाईन बैठक में अधिकांश सदस्यों ने रेल यात्रियों के लिए नई ट्रेन, लिफ्ट, एस्कलेटर सहित विभिन्न सुविधाये प्रदान करने का सुझाव दिया. इस मौके पर डीआरएम संजय विश्वास ने सदस्यों को बताया कि पैसिंजर ट्रेनों को शीघ्र चलाने का प्रयास किया जा रहा है.

आज मंडल कार्यालय में कोविड -19 के चलते गूगल मीट के माध्यम से आयोजित इस मीटिंग में पहली बार सर्वाधिक 23 सदस्यों ने भाग लिया. बैठक के  प्रारंभ में समिति सचिव एवं वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक श्री विश्व रंजन ने अपने स्वागत भाषण में बताया कि संचार क्रांति ने पूरी दुनिया को एक मुट्ठी में ला दिया है, जिसके तहत आज हम सभी अपने –अपने स्थल से ही रेलवे में यात्रियों की सुविधा को बेहतर बनाने के प्रयास आज इस बैठक में कोविड-19 के कारण, गूगल मीट के तहत पहली बार आन लाईन मीटिंग कर रहे  है. इस नवगठित समिति की पहली बैठक कोरोना के कारण विलम्ब से हो रही है, जिसके लिए उन्होंने मंडल का खेद व्यक्त किया.

इस अवसर पर बैठक में डी.आर.एम. संजय विश्वास ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए बताया कि कोविड 19 के चलते जबलपुर रेल मंडल ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रियों की हर संभव मदद की, जबलपुर से श्रमिक स्पेशल, कोविड स्पेशल, किसान स्पेशल ट्रेन चलायी गयी. इसके साथ ही आज मंडल से प्रमुख ट्रेनों का संचालन प्रारंभ हो गया है, बोर्ड की नीति के अनुसार पैसेंजर ट्रेनों को भी प्रारंभ करने का प्रयास किया जा रहा है.
मंडल के अनेक  स्टेशनों से वर्तमान में कुछ गाडियों के ठहराव जीरो टाइम टेबिल के कारण निलंबित किये गए है, जिसके विषय में हमें जनप्रतिनिधियों के पत्र भी मिल रहे है हम आशा करते है कि इस महामारी के कम होने पर रेलवे बोर्ड इन ठहरावों पर पुन: विचार करके निलंबित स्टापेज को बहाल करेगा.

इसे भी पढ़ें-  Immunity Boosting Herbs:कोरोनावायरस से बचाव करेगा आंवला और सहजन की पत्तियों से तैयार ड्रिंक, जानिए रेसिपी

कोरोना अवधि की उपलब्धि के रूप में आज इटारसी से इलाहाबाद (प्रयागराज) रेल खंड  पूर्णता विद्युतीकृत हो गया है, जिससे ट्रेनों की गति बढ़ गयी है और यात्रा का समय कम हो गया है जिसके कारण कुछ गाडियों के समय में भी परिवतर्न किये गए है.

जबलपुर से गोंदिया लाईन भी तैयार हो गयी है बोर्ड से अनुमति मिलने पर इस खंड में यात्री रेल संचालन के जल्द ही शुरू होने पर इस क्षेत्र के लोगों को लाभ मिलेगा एवं विकास के साथ ही जबलपुर की  दक्षिण भारत से दूरी घट जाएगी.

सदस्यों ने यह मांग रखी

इस अवसर पर समिति के सदस्य राधे श्याम अग्रवाल ने जबलपुर के दूसरे पुल के चौड़ीकरण, ड्राप एंड गो में अवैध वसूली रोकने, निखिल अरुण देशकर ने पुणे के लिए नियमित ट्रेन, सुधीर मिश्रा ने कटनी में स्टेशन के बाहर के विकास, कमल नयन काबरा ने पिपरिया के प्लेटफार्म में लिफ्ट लगाने, भाई बलराम जिग्याशी ने मैहर में कोच डिस्प्ले को चालू करने, श्री जय सचदेवा ने वातानुकूलित डिब्बों में बेड रोल देने, डॉ जितेन्द्र जामदार ने रेलवे कुलियों एवं वेंडरो को महामारी में राहत देने सहित मदन महल एवं कछपुरा स्टेशन का विकास एवं ट्रेनों की टायमिंग को यात्री अनुकूल निर्धारित करने, डॉ सुनील मिश्रा ने अटारी के लिए नियमित ट्रेन एवं नागपुर के लिए गोंदिया मार्ग से नई ट्रेन के साथ ही पार्किंग कर्मियों के व्यवहार में सुधार, श्री बलदीप सिंह मैनी ने प्लेटफार्म की बैंचो को विकलांगों, वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओ के लिए आरक्षित करते हुए उनकी नाम पट्टिका लगाने एवं नंद राम पाठक, सुर्दशन वैध, दीपक शर्मा संतोष कुमार जायसवाल ने अपने प्रमुख सुझाव दिए. इन सुझावों पर डी.आर.एम. श्री विश्वास ने प्रशासनिक टिप्पणी से उन्हें अवगत करते हुए इन पर यथा संभव प्रयास करने का मत व्यक्त किया.

इसे भी पढ़ें-  स्पुतनिक लाइट: आ गई कोरोना की सिंगल डोज वैक्सीन, रूस ने इस्तेमाल की दी मंजूरी

बैठक के अंत में मंडल समिति से जोनल समिति के लिए हुए ई मतदान में 23 सदस्यों ने वोट डाला, जिसमें से सर्वाधिक 20 वोट डॉ जितेन्द्र जामदार को मिलने पर उन्हें जोनल रेलवे सलाहकार समिति (जेड.आर.यू.सी.सी.) का लिए चयनित किया गया. बैठक में अपर मंडल रेल प्रबंधक अमितोज बल्लभ, उप मुख्य अभियंता विजय पांडे, मंडल के शाखा अधिकारी सर्व श्री संजय यादव, डॉ. मधुर वर्मा,मणि भूषण सिंह, मनोज कुमार गुप्ता, अभिराम खरे, सुप्रकाश, विराट गुप्ता, संजय मनोरिया, एस आर.पी. सुनील कुमार जैन, वरि.मंडल सुरक्षा आयुक्त अरुण त्रिपाठी, मंडल वाणिज्य प्रबंधक देवेश सोनी सहित अनेक अधिकारी एवं पर्यवेक्षक उपस्थित थे. बैठक का संचालन वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक मनोज कुमार गुप्ता ने किया.

Advertisements