Breaking: मध्य प्रदेश में महंगी हुई बिजली, जनिये पूरा टैरिफ

Advertisements

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में बि‍जली महंगी होने जा रही है। ब‍िजली के दामों में दो फीसद वृद्धि की मंजूरी म‍िल गई है।जानकारी के अनुसार 730 करोड़ के घाटे को भरने 15 पैसे हर यूनिट तक बिजली के दाम बढ़ाए जा रहे हैं।

मप्र विद्युत नियामक आयोग ने बिजली कंपनी को 1.98 फीसद बढ़ोतरी को दी मंजूरी, तीन माह बाद फिर नए दाम तय क‍िए जाएंगे।

प्रदेश में बिजली कंपनी को लगभग तीन माह के लिए 730 करोड़ रुपये का घाटा पूरा करने के लिए दाम बढ़ाने की मंजूरी दी गई है। इसमें आम उपभोक्ताओं को हर यूनिट पर बिजली लगभग 15 पैसे प्रति यूनिट महंगी खरीदनी होगी। इतना ही नहीं फिक्स जार्च भी लगभग 2 रुपये तक बढ़ गया है। बढ़ी दरें 26 दिसंबर से लागू होगी।

कैसा है टैरिफ

मप्र विद्युत नियामक आयोग से प्रदेश की बिजली कंपनियों ने 40016 करोड़ का राजस्व की जरूरत बताई थी। इसलिए कंपनी ने मौजूदा दरों में 5.73 फीसद बढ़ोतरी मांगी थी। इससे कंपनी को करीब 2169 करोड़ पिछले साल से ज्यादा मिलते। आयोग ने 37673 करोड़ राजस्व आवश्यक्ता माना। इस हिसाब से कंपनी की मांग पर 730 करोड़ रुपये के घाटे को मंजूर किया है। यानी दाम में औसत बढ़ोतरी 1.98 फीसद की गई।

30 यूनिट के खपत वाले उपभोक्ताओं के लिए बिजली की दर में इजाफा नहीं किया गया है।

विवाह समारोह एवं अन्य सामाजिक धार्मिक आयोजन

 

ई वाहन,ई रिक्सा चार्जिंग स्टेशन

 

रेलवे ट्रेक्शन

 

मीटर किराया माफ—

 

बिजली कंपनी के नए दर में मप्र विद्युल नियामक आयोग ने मीटर किराया मान्य नहीं किया है। नए टैरिफ में उपभोक्ता को मीटर किराया नहीं देना होगा। एक किलोवाट लोड वाले सिंगल फेज उपभोक्ता को मासिक किराया 10 रुपये,थ्री फेस में 25 रुपये तथा 10 किलोवाट से ज्यादा भार वाले उपभोक्ता को 125 रुपये प्रतिमाह मीटर किराया देना पड़ता था जो अब नहीं देना होगा।

 

150 यूनिट तक खपत पर 17 रुपये महंगी बिजली

 

बिजली कंपनी के मौजूदा दाम से 15 पैसे तक का अधिकतम इजाफा दाम में हुआ है। प्रदेश में सबसे ज्यादा उपभोक्ता 150 यूनिट तक खपत वाले हैं। ये इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत सब्सिडी प्राप्त करते हैं। इनके बिल में 17 रुपये तक की बढ़ोतरी होने का अनुमान है।

 

किसानों पर सबसे ज्यादा बोझ

 

बिजली टैरिफ में इस बार किसानों पर बोझ ज्यादा है। कृषि पंप में बिजली की दर 700 रुपये प्रति हार्सपावर से बढ़ाकर 750 रुपये कर दी गई है। सीधे 50 रुपये का इजाफा हुआ है। बिजली जानकार एवं सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता राजेंद्र अग्रवाल ने आरोप लगाया कि कृषि पर सात फीसद की बढ़ोतरी की गई है। राजेंद्र अग्रवाल का दावा है कि बिजली कंपनी ने कृषि के लिए बिजली बढ़ोतरी का कोई प्रस्ताव भी नहीं दिया था फिर भी आयोग ने दाम किस मांग पर बढ़ाने का निर्णय लिया।

 

ऐसा है टैरिफ

 

यूनिट अभी नया टैरिफ बढ़ोतरी

 

0—50 यूनिट 4.05 4.13 8 पैसे

 

51—150 यूनिट 4.95 5.05 10 पैसे

 

151—300 यूनिट 6.30 6.45 15 पैसे

 

300 से ज्यादा 6.50 6.65 15 पैसे

Advertisements