जबलपुर बुक पब्लिकेशन कंपनी ने शहर के युवाओं को लगाया चूना

Advertisements

जबलपुर, आशीष शुक्ला। जबलपुर बुक पब्लिकेशन की कंपनी द्वारा शहर के 10000 युवाओं से कम से कम ढाई हजार रुपए रजिस्ट्रेशन के नाम पर ले लिए।

आज सुबह से ही कंपनी कुछ लोगों को बुलाकर धीरे-धीरे पैसे वापस कर रही थी उस वक्त महज यह अफवाह फैल गई कि कंपनी यहां से भागने की तैयारी में है जिसके बाद धीरे-धीरे शाम को 5:00 बजे तक लोग कंपनी के ऑफिस के बाहर इकट्ठे होने लगे और कुछ देर बाद ही हजारों की तादाद में पब्लिक ने सड़क जाम कर दी और कंपनी के ऑफिस के बाहर हो हल्ला मचाने लगे, जिसके बाद पूरी सड़क जाम हो गई और गाड़ियों की आवाजाही बंद हो गई।

सूचना मिलते ही कोतवाली थाना प्रभारी द्वारा मोर्चा संभाल लिया गया और लोगों को समझाइश दी गई है। कंपनी से जुड़े दो लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ भी कर रही हैं।

क्या था कंपनी का कार्य
जबलपुर बुक पब्लिकेशन नाम की कंपनी विकलांगों के नाम पर हर हफ्ते लोगों से फॉर्म भरवाती थी और फॉर्म भरने वाले हर एक व्यक्ति को सप्ताहिक रूप से ₹4000 दिए जाते थे परंतु इस कार्य के पहले कंपनी द्वारा लोगों से रजिस्ट्रेशन किया जाता था और जिसका बाकायदा शुल्क भी लिया जाता था ।इसका शुल्क ₹2500 था।

शहर में करीब 10 से 15 हजार लोगों द्वारा इस कंपनी में रजिस्ट्रेशन करवाया गया था। अगर एक अंदाजा लगाया जाए तो इस पूरी प्रक्रिया में कंपनी द्वारा करोड़ का घोटाला किया गया है।कंपनी द्वारा वर्क फ्रॉम होम प्रक्रिया के तहत कार्य दिया जा रहा था जिसके बाद उनकी इस ठगी का शिकार घरेलू महिलाएं एवं लड़कियां सबसे ज्यादा हुई है

घंटों से लगा हुआ है जाम
उखरी तिराहे के आगे चलने पर ही इस कंपनी का ऑफिस है जहां पिछले 2 घंटे से लगातार पीड़ित अपने पैसों की मांग कर रहे हैं और लगातार पूरी सड़कों में खड़े हुए हैं जिसके कारण वहां से निकलने वाली गाड़ियों को आने जाने में समस्या हो रही है और कहीं ना कहीं यातायात बाधित हो रहा है।

पुलिस कर रही है पूछताछ
कोतवाली पुलिस ने पब्लिकेशन के कुछ कर्मचारियों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है और जांच मैं जुटी है कि कंपनी द्वारा लोगों को कैसे बहला-फुसलाकर उनसे पैसे लिए जाते थे

Advertisements