MP में महापौर-अध्यक्ष के आरक्षण की प्रक्रिया पूर्ण, किसी भी वक्त घोषित हो सकते हैं निकाय चुनाव

Advertisements

Madhya Pradesh Local Body Elections । नगरीय निकायों के महापौर और अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब सप्ताहभर में चुनाव कार्यक्रम घोषित किया जा सकता है। राज्य निर्वाचन आयोग को आरक्षण प्रक्रिया पूरी होने का ही इंतजार था।

आयोग अपने स्तर पर सभी तैयारियां कर चुका है। मतदान केंद्र और वार्डों की स्थिति को लेकर अंतिम रिपोर्ट भी बुलाई जा चुकी है। बताया जा रहा है कि 13-14 दिसंबर को कुछ निकायों की मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के साथ आयोग चुनाव की तारीखों की घोषणा कर सकता है।

आयोग के सूत्रों का कहना है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए किसी भी मतदान केंद्र में एक हजार से ज्यादा मतदाता नहीं रहेंगे। इसके लिए मतदान केंद्रों का नए सिरे से निर्धारण करवाया गया है।

इसकी सूची को जिलों में अंतिम रूप दे दिया है। वहीं, अधिकांश निकायों की मतदाता सूची प्रकाशित हो चुकी है। कुछ निकायों का वार्ड परिसीमन बाद में हुआ इसलिए इनकी मतदाता सूची को अंतिम रूप देने का काम चल रहा है।

जैसे ही मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन होगा, आयोग चुनाव कार्यक्रम घोषित कर देगा। चुनाव चिन्ह तय करने के साथ चुनाव संबंधी नियमों का प्रकाशन भी हो चुका है। नामांकन ऑनलाइन भी भरे जा सकेंगे। बताया जा रहा है कि मतदान के समय भीड़ न हो, इसके लिए उपचुनावों की तरह मतदान का समय एक घंटे बढ़ाया जा सकता है।

प्रदेश में निकाय चुनाव प्रत्यक्ष प्रणाली से ही होंगे। मतदाता सूची महापौर और अध्यक्ष का चुनाव करंेगे। शिवराज सरकार ने कमल नाथ सरकार के निर्णय को पलटते हुए प्रत्यक्ष प्रणाली से ही चुनाव कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए नगर पालिक विधि में अध्यादेश के माध्यम से संशोधन किया जा चुका है। 28 दिसंबर से होने वाले विधानसभा के शीतकालीन सत्र में अध्यादेश के स्थान पर संशोधन विधेयक लाया जा रहा है।

इन निकायों के लिए होंगे चुनाव

 

नगर निगम-16

 

नगर पालिका- 99

 

नगर परिषद- 292

Advertisements