BJP चीफ VD शर्मा का बड़ा बयान: विधायकों या अन्य पदों पर काबिज लोगों को नहीं लड़ना चाहिए महापौर का चुनाव

Advertisements

इंदौर। नगरीय निकाय के लिए आरक्षण घोषित होते ही टिकट को लेकर अभी से सरगर्मी तेज होने लगी है। उधर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा है कि प्रयास होंगे कि जो पहले से विधायक या अन्य पद पर हैं उनकी बजाय आम कार्यकर्ता चुनाव लड़े। इधर एक नंबर से कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने अपनी ओर से बयान जारी कर दिया है कि वे महापौर का चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

बुधवार को ही महापौर पद के लिए आरक्षण की घोषणा हुई। इसी दिन भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विवाह समारोहों में शामिल होने इंदौर आए। शर्मा ने भाजपा कार्यालय पर कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और अनौपचारिक बैठक ली। इसी दौरान पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी का प्रयास होगा कि नए लोगों और कार्यकर्ताओं को आगे लाया जाए। जो चुनाव जीतने में सक्षम हों उन्हें टिकट मिले। जो पहले से पद पर हैं उन्हें टिकट नहीं दिया जाए। शर्मा ने यह भी कहा कि इस बारे में जल्द ही कानून भी लाने वाले हैं।

इसे भी पढ़ें-  ज्योतिरादित्य सिंधिया की सुरक्षा में चूक, 8 किलोमीटर तक दूसरी गाड़ी को करते रहे कवर, 14 पुलिसकर्मी सस्पेंड

शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि छिंदवाड़ा नगरीय निकाय के अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित होने का नाथ विरोध कर रहे हैं। इससे उनकी और कांग्रेस की अनुसूचित जाति-जनजाति विरोधी मानसिकता जाहिर होती है, जबकि सबसे ज्यादा जनजाति जनसंख्या छिंदवाड़ा में है ऐसे में उन्हें तो आरक्षण का स्वागत करना चाहिए था। बाद में बैठक में शर्मा ने कार्यकर्ताओं की बैठक में सांवेर की जीत के लिए सबको बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह संगठन की खूबी है कि मिशन मोड पर चले जाते हैं तो जीत को ऐतिहासिक बना देते हैं।

Advertisements