नए साल में घट जाएगी प्रायवेट कर्मचारियों की Take Home Salary, बढ़ जाएगा PF और ग्रेच्युटी

Advertisements

Take Home Salary Update, PF प्रायवेट कंपनियों में काम करने वाले लोगों के लिए नए साल में बुरी खबर मिलने जा रही है। 1 अप्रैल से ऐसे कर्मचारियों की टेक होम सैलरी यानी तमाम कटौतियों के बाद मिलने वाली राशि घटने जा रही है। कारण यह है कि अप्रैल से नया वेज कानून लागू होगा और कंपनियों को अपने कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव करना पड़ेगा। पिछले साल संसद में यह कानून पास हुआ था। नए नियमों के अनुसार, कर्मचारियों को दिए जाने वाले भत्ते कुल मुआवजे का 50% से अधिक नहीं हो सकते हैं। इसका मतलब है कि अप्रैल से मूल वेतन (सरकारी नौकरियों में मूल वेतन और महंगाई भत्ता मिलाकर) कुल वेतन का 50% या अधिक होना होगा।

समझिए पूरा गणित, कैसे बढ़ जाएगा पीएफ योगदान (PF Contribution)

आमतौर पर ज्यादातर कंपनियां कर्मचारी के वेतन पैकेज के गैर-भत्ता हिस्से को 50% से कम रखती हैं। इस कारण अधिकांश कर्मचारियों के वेतन पैकेज में बदलाव की आशंका है। नई आवश्यकता को पूरा करने के लिए कंपनियों को कर्मचारियों के मूल वेतन में वृद्धि करनी होगी। संशोधन के परिणामस्वरूप टेक-होम वेतन में कमी आएगी क्योंकि अधिकांश कर्मचारियों का भविष्य निधि (पीएफ) योगदान बढ़ जाएगा। पीएफ की गणना मूल वेतन के प्रतिशत के रूप में की जाती है।

बहरहाल, इस व्यवस्था का सकारात्मक पहलू यह भी है कि कर्मचारियों की जमा होने वाली सामाजिक सुरक्षा राशि बढ़ जाएगी। साथ ही सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारियों की ग्रेच्युटी राशि भी बड़ी होगी। ग्रेच्युटी की गणना भी मूल वेतन के आधार पर की जाती है। इस बीच, कंपनियों को कर्मचारियों के पीएफ खाते और ग्रेच्युटी भुगतान में अपना योगदान बढ़ाना होगा।

Advertisements