Bharat Band: कल भारत बन्द को लेकर गृह मंत्रालय ने किया राज्यों को अलर्ट

Advertisements

नई दिल्‍ली । Bharat Band किसान संगठनों की ओर से कल होने वाले भारत बंद को लेकर केंद्र सरकार भी अब अलर्ट हो गई है और इस संबंध में सभी राज्य सरकारों को अलर्ट जारी किया है। ‘भारत बंद’ के दौरान शांति बनी रहे और किसी तरह की हिंसा या उपद्रव नहीं हो, इसे लेकर केंद्र सरकार ने एडवाइजरी जारी की। सरकार ने ‘भारत बंद’ के मद्देनजर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को जारी एडवाइजरी में कहा है कि मंगलवार को ‘भारत बंद’ के दौरान सुरक्षा कड़ी करते हुए सभी जगह शांति सुनिश्चित की जाए।

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जारी देशव्यापी दिशा-निर्देश में कहा गया कि राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासकों को सुनिश्चित करना चाहिए कि कोरोना से बचाव को लेकर जो गाइडलाइन पहले जारी की गई है उसका पालन किया जाए। साथ ही प्रदर्शनों के दौरान शारीरिक दूरी बरकरार रखी जाए। राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को ‘भारत बंद’ के मद्देनजर शांति बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट : 841 सेम्पल की रिपोर्ट में 173 संक्रमित, 167 स्वस्थ

शांति भंग नहीं होने दी जाए 

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि राज्‍यों से कहा गया है कि ‘भारत बंद’ के दौरान शांति भंग नहीं हो इसको लेकर पहले से ही एहतियाती कदम उठाए जाएं। साथ ही कड़ी चौकसी रखी जाए ताकि कहीं भी कोई अप्रिय घटना नहीं हो। मालूम हो कि मंगलवार को किसान संगठनों ने ‘भारत बंद’ का आह्वान किया है। किसान संसद के मॉनसून सत्र में लाए गए तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

गौरतलब है कि किसान संगठनों की ओर से बुलाए गए ‘भारत बंद’ का कांग्रेस, राकांपा, द्रमुक, सपा, टीआरएस और वामपंथी दलों जैसी बड़ी पार्टियों ने समर्थन किया है। वहीं सरकार ने इसे विपक्षी दलों की अवसरवादिता बताया है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियों को आज आड़े हाथ लिया और कहा कि किसानों के हित में केंद्र सरकार जो कानून लेकर आई है, उसे पहले कांग्रेस खुद अपने मेनिफेस्टो में शामिल कर चुकी है। गौरतलब है केंद्र सरकार व किसान नेताओं के साथ पांच दौर की बातचीत कर चुकी है लेकिन आंदोलन खत्‍म नहीं हो पाया है। किसान संगठनों के नेता तीनों कृषि कानून को रद करने मांग पर अड़े हुए हैं।

Advertisements