जबलपुर में CBI का छापा: एमईएस के बैरक स्टोर ऑफिसर को 01 लाख रुपए रिश्वत और स्टोर कीपर को ब्लैंक चेक लेते दबोचा

Advertisements

CBI की टीम ने बुधवार शाम को गैरीसन इंजीनियर (पश्चिम) के मिलिट्री इंजीनियर सर्विसेस (एमईएस) के कार्यालय में रेड डाली। टीम ने बैरक स्टोर ऑफिसर और स्टोर कीपर को रंगेहाथ रिश्वत लेते दबोचा। दोनों ने फर्नीचर रिपेयर करने वाली फर्म से 3.10 लाख रुपए रिश्वत मांगी थी। एक लाख रुपए कैश बैरक स्टोर ऑफिसर को और ब्लैंक चेक लेकर 2.10 लाख रुपए भरने वाले स्टोर कीपर को गिरफ्तार कर लिया। दोनों को गुरुवार को सीबीआई विशेष कोर्ट में पेश करेगी। अभी दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।
फर्नीचर रिपेयर फर्म की ओर से हुई थी शिकायत
सीबीआई एसपी पीके पांडे ने बताया कि एमईएस में पदस्थ बैरक स्टोर ऑफिसर सुजीत बैठा और स्टोर कीपर जयदीप शुक्ला ही भुगतान संबंधी कार्य देखते हैं। पचपेढ़ी सिविल लाइंस स्थित एमईएस में रजिस्टर्ड फर्म सत्या एंड संस फर्नीचर रिपेयर का काम करती है। फर्म के नौ लाख रुपए का भुगतान दोनों ने कर दिए थे। इतने का ही और भुगतान बिल अटका था। इसके अलावा भविष्य में भी फर्म को कई लाखों के काम मिलना था। इसके एवज में दोनों 3.10 लाख रुपए की मांग की थी।

जबलपुर एमईएस ऑफिस में सीबीआई की रेड
जबलपुर एमईएस ऑफिस में सीबीआई की रेड

बातचीत कराई गई ट्रैप
एसपी पांडे के मुताबिक फर्म की ओर से इसकी शिकायत कुछ दिन पहले दी गई थी। इस पर उनकी बातचीत को ट्रैप कराया गया। बुधवार को दोनों ने फर्म संचालक को पैसे लेकर बुलाया था। संचालक से एक लाख रुपए नकद और ब्लैंक चेक के माध्यम से शेष 2.10 लाख रुपए लेने की बात तय हुई थी।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: कटनी रेल स्टेशन में 7 करोड़ के स्वर्ण आभूषणों के साथ सूरत के तीन लोग गिरफ्तार, पूछताछ जारी

रिश्वत की रकम लेते ही टीम ने दबोचा

सीबीआई की टीम ने विशेष रसायन वाले नोट संचालक को दिए। संचालक ले जाकर सुजीत बैठा को एक लाख रुपए नकद और जयदीप शुक्ला को ब्लैंक चेक दे आया। इसके बाद टीम ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों के कब्जे से रिश्वत की रकम और ब्लैंक चेक जब्त किए। जयदीप ने ब्लैंक चेक में रकम की राशि 2.10 लाख रुपए भर लिए थे। तलाशी में 55 हजार रुपए और नकदी सहित कुछ अहम दस्तावेज जब्त किए हैं।

Advertisements