MP Board: 10वीं व 12वीं में सामान्य व विशिष्ट भाषा की अनिवार्यता समाप्त

Advertisements

भोपाल, MP Board। मप्र बोर्ड के विद्यार्थियों के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने एक बड़ा निर्णय लिया है। अब दसवीं व बारहवीं में सामान्य व विशिष्ट भाषा की अनिवार्यता समाप्त कर दी है। अभी हाल ही में मंडल की पाठ्यचर्या समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया है।

सत्र 2020-21 में कक्षा दसवीं एवं बारहवीं में विशिष्ट व सामान्य की अनिवार्यता समाप्त की जाती है। विद्यार्थियों को विकल्प की सुविधा दी जाती है। विशिष्ट एवं सामान्य भाषा में से विद्यार्थी कोई भी भाषा का चयन अपनी रूचि के अनुसार कर सकता है। दसवीं का विद्यार्थी कोई भी तीन सामान्य/विशिष्ट भाषा या इनका कॉम्बिनेशन (2 विशिष्ट 1 सामान्य या 2 सामान्य 1 विशिष्ट ) भाषा लेकर परीक्षा में शामिल हो सकता है।

इसी तरह बारहवीं में विद्यार्थी कोई भी 2 सामान्य/विशष्ट भाषा या 1 सामान्य एवं 1 विशिष्ट भाषा लेकर परीक्षा दे सकता है। विद्यार्थी एक ही भाषा को सामान्य एवं विशिष्ट दोनों में नहीं ले सकेगा।

जैसे हिंदी विशिष्ट के साथ हिंदी सामान्य ,अंग्रेजी विशिष्ट के साथ अंग्रेजी सामान्य, संस्कृत विशिष्ट के साथ संस्कृत सामान्य एवं उर्दू विशिष्ट के साथ उर्दू सामान्य भाषा का चयन नहीं कर सकेगा। साथ ही दसवीं व बारहवीं दोनों में प्रत्येक विद्यार्थी को भाषा विषयों में हिंदी एवं अंग्रेजी लेना अनिवार्य है। ज्ञात हो कि पहले दसवीं में हिंदी माध्यम के विद्यार्थी को हिंदी विशिष्ट एवं दो सामान्य भाषा और अंग्रेजी माध्यम के विद्यार्थी को अंग्रेजी विशिष्ट एवं दो सामान्य भाषा लेना होता था। वहीं बारहवीं के विद्यार्थी को हिंदी माध्यम वालों को हिंदी विशिष्ट एवं एक सामान्य भाषा और अंग्रेजी माध्यम वालों को अंग्रेजी विशिष्ट एवं एक सामान्य भाषा लेकर परीक्षा में शामिल होते थे।

Advertisements