भोपाल में Corona Vaccine का पहला डोज निजी स्कूल के एक शिक्षक को दिया गया

Advertisements

भोपाल। भोपाल के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में शुक्रवार को सात लोगों को कोरोना को-वैक्सीन का ट्रायल डोज दिया गया है। प्रदेश का पहला डोज दोपहर दो बजे शहर के ही एक निजी स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षक को दिया गया। देर शाम तक सातों की तबीयत पूरी तरह ठीक थी। एक सप्ताह बाद इन सातों लोगों की जांच की जाएगी। शनिवार से अधिक लोगों को ट्रायल डोज देने की तैयारी कर ली गई है। जिन्हें पूर्व में कोरोना संक्रमण हुआ था उन्हें ट्रायल में शामिल नहीं किया जाएगा।

पीपुल्स यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर राजेश कपूर ने बताया कि ट्रायल में शामिल होने के लिए 18 लोग स्वेच्छा से आए थे। सभी से सहमति पत्र लेकर ट्रायल के लिए तय गाइड लाइन के अनुरूप उनकी स्वास्थ्ा जांचें की गईं। इनमें से सात लोग ट्रायल डोज के लिए फिट पाए गए थे।

यूनिवर्सिटी प्रबंधन की तरफ से बताया गया है कि भोपाल में दो हजार लोगों पर ट्रायल किया जाएगा। इनमें से एक हजार लोगों को ट्रायल वैक्सीन के डोज लगेंगे। उन्हीं लोगों पर ट्रायल किया जाएगा, जो ट्रायल केे लिए तय गाइड लाइन के अनुरूप उचित पाए जाएंगे।

सात दिन बाद, चार सप्ताह तक लेंगे फीडबैक

 

जिन लोगों को यह वैक्सीन लगाया गया है उन्हें 48 घंटे तक अस्पताल में ही आबजर्वेशन में रखा जाएगा। जिन लोगों पर ट्रायल किया जाना है उनका फीडबैक सात दिन बाद लेना शुरू किया जाएगा। उसके बाद चार हफ्ते तक उनकी जांचें होंगी। कॉलेज प्रबंधन की तरफ से कहा गया है कि ट्रायल डोज लगने के बाद किसी को असहज लगता है या तबीयत खराब होती है तो वे कभी भी कॉलेज आ सकतेे हैं।

Advertisements