lockdown Again in India: क्या फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहा देश ?

lockdown Again in India। राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली, अहमदाबाद और इंदौर जैसे शहरों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद सरकार एक बार फिर सख्ती दिखा रही है। दिल्ली में मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना बढ़ाकर दो हजार रुपए कर दिया गया है, वहीं अहमदाबाद में शुक्रवार रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू की घोषणा कर दी गई है। देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण सोशल मीडिया पर भी एक अफवाह जोर पकड़ रही है कि देश में एक दिसंबर से फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार गिरावट बीते कुछ दिनों से देखी जा रही थी। लेकिन इसके बावजूद कुछ स्थानों पर स्थिति गंभीर होती जा रही है। दिल्ली, अहमदाबाद, इंदौर सहित कुछ स्थानों पर बीते कुछ दिनों से कोरोना संक्रमण के केस में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। ऐसे में सख्ती बरतना जरुरी हो गया है। गुजरात के अहमदाबाद जहां सरकार में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया है, वहीं दिल्ली में राज्य सरकार ने सख्ती बढ़ा दी है। इसके अलावा हरियाणा, उत्तराखंड, मिजोरम, हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में स्कूलों को फिर बंद कर दिया गया है। ऐसी स्थिति में देशव्यापी लॉकडाउन तो नहीं लगाया जा रहा है लेकिन स्थानीय स्तर पर संक्रमण के स्तर को देखते हुए फिर से लोकल लॉकडाउन लगाया जा रहा है।

अहमदाबाद में ऐसी है स्थिति

गुजरात के अहमदाबाद शहर में नगर निगम की सीमा के अंदर कर्फ्यू रहेगा। यहां दीपावली के बाद कोविड-19 के केस में बड़ा उछाल आया है। राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव कुमार गुप्ता ने कहा कि अहमदाबाद में पूर्ण कर्फ्यू के दौरान सिर्फ दवा व और दूध की दुकानें ही खुली रहेगी। गुजरात सरकार ने राज्य में 23 नवंबर से स्कूलों को खोलने की तैयारी कर ली थी लेकिन अब सरकार ने अपने उस फैसले पर भी रोक लगा दी है।

स्कूल खुलते ही बच्चों में फैला संक्रमण

देश के कुछ इलाके ऐसे भी है जहां केंद्र सरकार ने अनलॉक के तहत स्कूल खोलने की अनुमति दे दी थी। मिजोरम, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा जैसे राज्यों में राज्य सरकार ने 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए खोलने की अनुमति दे दी थी। साथ ही यहां कॉलेज और यूनिवर्सिटीज भी शुरू कर दी गई थी। लेकिन स्कूल व कॉलेज शुरू होते ही यहां छात्रों में संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सरकार को अपना फैसला वापस लेने के लिए मजबूर कर दिया है। अब इन सभी राज्यों में स्कूल कॉलेज फिर से बंद कर दिए गए हैं।