रामचरितमानस का अनूठा उपयोग, राम नाम जपकर जंगलों में घास बढ़ाने की तैयारी

उमरिया। लोगों में व्यापक रूप से रचे-बसे श्रीरामचरितमानस का एक अनूठा उपयोग दोहराने की जरूरत महसूस की जा रही है।

बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान में कम हो रहे ग्रास लैंड (घास के मैदान) को फिर विकसित करने में कभी इसकी मदद ली गई थी। जंगल के आसपास बसे गांवों में जब श्रीरामचरितमानस की चौपाइयां गूंजीं तो इस परेशानी का हल निकल आया।

दरअसल, जंगल में जानवरों की बहुलता वाले कोर एरिया में ग्रास लैंड कम होने लगे थे, इसकी वजह बाघों व अन्य जानवरों का कोर एरिया से बाहर और मानव उपस्थिति वाले बफर जोन तक चले जाना था। इससे कोर एरिया को तो नुकसान हुआ ही, आसपास के ग्रामीणों के लिए खतरा पैदा होने लगा था।

तीन साल पहले ध्वनि विस्तारक यंत्रों की सहायता से किए श्रीरामचरितमानस के पाठ की तेज आवाज से जानवर कोर एरिया में लौटे और ग्रास लैंड पुनः विकसित हुआ।

दरअसल, ग्रास लैंड के बने रहने और विकसित होने के लिए जरूरी है कि शाकाहारी जानवर घास खाते रहें, अन्यथा घास बड़ी होकर कड़ी हो जाती है और कोमल घास को पनपने नहीं देती, इससे धीरे-धीरे ग्रास लैंड खत्म होने लगता है। यहां तीन साल पहले यही स्थिति बनी थी।

लगभग 1602 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैले इस राष्ट्रीय उद्यान में 748 वर्ग किमी कोर एरिया है। बाघ का भोजन छोटे शाकाहारी जानवर होते हैं और ये घास पर ही पलते हैं। घास कम होने से जानवर कम होंगे यानी बाघ को शिकार के लिए ज्यादा मशक्कत करनी होगी। जैव विविधता बरकरार रखने के लिए भी यह आवश्यक है कि जंगल का ग्रास लैंड कुल क्षेत्र का कम से कम 13 प्रतिशत हो।

तीन साल पहले यह घट गया था जिससे बाघ शिकार की तलाश में जंगल के बाहर मानव बस्तियों तक पहुंचने लगे थे। जानवरों को कुछ समय के लिए कोर क्षेत्र में पहुंचाना जरूरी हो गया था।

तत्कालीन फील्ड डायरेक्टर मृदुल पाठक ने बफर जोन के गांवों में श्रीरामचरित मानस के पाठ के साथ जागरण करवाने का निर्णय लिया था। उन्होंने ग्रामीणों को ढोलक, मंजीरा और स्पीकर उपलब्ध कराए।

धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण होने के कारण ग्रामीणों ने भी इसमें रुचि ली। पाठ की तेज आवाज से जानवर जंगलों में भागने लगे। कोर एरिया में लौटे शाकाहारी जानवर कड़ी घास को भी खाने लगे जिससे नई घास की कोंपल फूटी, जानवरों की चहलकदमी से पुरानी घास खत्म हुई और नई घास उगी।

इस तरह कुछ ही महीनों में ही ग्रास लैंड छह प्रतिशत हो गया। इधर, बफर जोन से जानवर हटे तो उद्यान प्रबंधन व ग्रामीणों ने ग्रास लैंड बढ़ाने में वैकल्पिक तरीकों से मदद की। अभियान की वजह से पार्क में प्रति वर्ग किमी 90 से 95 शाकाहारी वन्य प्राणी हो गए थे। इस तरह उनकी संख्या पचास हजार से ज्यादा हो गई थी।