जबलपुर: थाना प्रभारी ने मानी गलती, तहसीलदार को भेज दिया था नोटिस, वापस लिया

जबलपुर। नामांतरण के मामले में राजस्व न्यायालय के नाम यानी तहसीलदार को थाना प्रभारी विजय नगर ने नोटिस जारी कर दिया था।

एक व्यक्ति की शिकायत के बाद बिना सोचे समझे यह नोटिस दिया और उसमें सभी रिकॉर्ड मांगे थे। इस मामले ने तूल पकड़ा और जब आला अधिकारियों तक बात पहुंची तो थाना प्रभारी को अपनी गलती का एहसास हुआ कि नोटिस उनके द्वारा नहीं दिया जा सकता था।

थाना प्रभारी सचिन धुर्वे ने तहसीलदार प्रदीप मिश्रा से मिलकर इस बात पर खेद जताया है। चूंकि थाना प्रभारी अभी प्रशिक्षण प्राप्त डीएसपी है। इसलिए उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। बावजूद इसके राजस्व अधिकारियों में थाना प्रभारी के इस रवैये को लेकर आक्रोश फैल गया था।

फिलहाल मामले में थाना प्रभारी ने सुलह करते हुए। अपना नोटिस वापस ले लिया है।

कलेक्टर ने मांगा ब्योरा
इस घटनाक्रम की जानकारी कलेक्टर कर्मवीर शर्मा को मिली तो उन्होंने पूरे प्रकरण का ब्योरा प्राप्त किया। तहसीलदार ने बताया कि थाना प्रभारी ने गलत तरीके से उन्हें व राजस्व न्यायालय को नोटिस जारी कर दिया था। चूंकि यह उनके कार्यक्षेत्र से बाहर की कार्रवाई थी, इसलिए उन्हें लिखित में इस बात की जानकारी भी दी गई। इस पूरे प्रकरण में न्यायालयीन कार्यवाही में हस्तक्षेप करने पर थाना प्रभारी को अपनी गलती का अहसास हुआ। तब जाकर उन्होंने तहसीलदार प्रदीप मिश्रा से खेद व्यक्त किया और फिलहाल शिकायतकर्ता व्यक्ति को अपने स्तर पर राजस्व न्यायालय रिकार्ड प्राप्त करने का आवेदन लगाने कहा गया है।