Jabalpur अपहरण कांड: CM शिवराज हुए सख्त, कमलनाथ ने सरकार को घेरा, 3 गिरफ्तार

Jabalpur Crime News: खनन कारोबार से जुड़े व्यवयायी मुकेश लांबा के 13 वर्षीय पुत्र आदित्य लांबा की अपहर्ताओं ने हत्या कर दी।

रविवार सुबह पनागर क्षेत्र के बिछुआ गांव से गुजरी नहर में बालक का शव मिला। मामले में पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। यह सभी पूर्व परिचित बताए जा रहे हैं।

मामले में चौंकाने वाली बात यह है कि पुलिस की जानकारी में पूरा घटनाक्रम होने के बाद भी आरोपितों ने परिजन के जरिए तकरीबन 8 लाख रुपये 16 अक्टूबर को फिरौती के रूप में वसूल भी लिए थे।

इसकेे बावजूद पुलिस अपहर्ताओं तक नहीं पहुंच सकी। अपहर्ताओं ने परिजनों से 2 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी। इधर, बालक के शव की जानकारी मिलने पर धनवंतरि नगर के व्यापारी सड़कों पर उतर आए। दुकानें बंद कर पुलिस की लापरवाही पर आक्रोश जताया।

पुलिस ने अपहरण के तीनों आरोपितों का रविवार शाम चार बजे अधारताल चौराहे से जुूलूस निकाला। आरोपितों करण जग्गी, मोनू विश्वकर्मा ने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने पैसे के लिए आदित्य का अपहरण किया था। 8 लाख रुपये मिलने के बाद शुक्रवार शाम बालक की नहर में फेंककर हत्या कर दी। इधर, पुलिस ने मामले का अब तक खुलासा नहीं किया है। पहचानने के डर से आरोपियों ने बालक की हत्या की।

गुरुवार 15 अक्टूबर की शाम सात बजे आरोपितों ने शहर के धनवंतरि नगर क्षेत्र से आदित्य लांबा का उसके घर के पास से अपहरण कर लिया था। बालक नजदीकी दुकान से बिस्किट लेने के लिए गया था। घटना के पंद्रह मिनट के अंदर आदित्य की मां के फोन पर आरोपितों ने 2 करोड़ रुपये की फिरौती की मांगी थी।

कब, कहां राशि लाना है यह नहीं बताया था। इसके बाद आरोपित फोन पर लगातार फिरौती मांगते रहे। जानकारी मुताबिक शुक्रवार 16 अक्टूबर को बालक के पिता मुकेश लांबा ने अपने पड़ोसी संजय मिश्रा के जरिए तकरीबन 8 लाख रुपये अपहर्ताओं तक पहुंचा भी दिए थे।

मुख्यमंत्री शिवराज ने दिए अधिकारियों को निर्देश- नाबालिग की हत्या के संबंध में सख्त कार्रवाई करें, किसी को नहीं बक्शा जाए

 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर में नाबालिग की हत्या के मामले में भी कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। भोपाल में आयोजित बैठक में सीएम ने कहा कि ऐसे अपराधियों को समाप्त करने के लिए प्रभावी कार्रवाई हो। किसी भी दोषी को न बख्शा जाए। आईजी इंटेलिजेंस आदर्श कटियार ने बताया कि इस मामले में आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। प्रकरण में विस्तृत जांच की जा रही है। इस दौरान मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, ओएसडी मुख्यमंत्री कार्यालय मकरंद देउस्कर उपस्थित थे।

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ का ट्विट-जबलपुर में बुझ गया एक घर का चिराग

 

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने मामले में ट्विट कर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शराब माफियाओं द्वारा 14 लोगों की जान लेने के बाद अब जबलपुर में अपहरण माफियाओं द्वारा एक मासूम की जान ले ली गई। एक घर का चिराग और बुझ गया। शिवराज सरकार अपहरण माफियाओं से मासूम बालक को वापस नहीं ला सकी। ये माफिया पूरे प्रदेश को लील लेंगे। हमारी सरकार में हमने इन्हें कुचल दिया था, लेकिन शिवराज सरकार इनके प्रति प्रेम दिखा रही है, इन्हे बख्शा जा रहा है। पता नहीं क्यों माफिया- मिलावटखोर शिवराज जी के भगवान बने हुए हैं।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber