भारत सरकार राजमाता विजयाराजे के नाम से जारी करेगी 100 का सिक्का, पीएम मोदी करेंगे अनावरण

भोपाल। राजमाता विजयाराजे की 100 वीं जन्म जयंती 12 अक्टूबर को है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजमाता विजायराजे सिंधिया के सम्मान में 100 रुपए के सिक्के का अनावरण करेंगे।

जानकारी के अनुसार, पीएम नरेंद्र मोदी मुख्य कार्यक्रम में दिल्ली में सिक्का जारी करेंगे। वहीं, इस दौरान मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ग्वालियर में कार्यक्रम में शामिल होंगे।

यशोधरा राजे सिंधिया ने किया ट्वीट
मध्यप्रदेश सरकार की मंत्री और राजमाता विजयाराजे सिंधिया की छोटी बेटी यशोधरा राजे सिंधिया ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा- अविस्मरणीय पल। जन्म शताब्दी जयंती वर्ष, 12 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, राजमाता साब की जयंती पर उनकी स्मृति में 100 रुपए के सिक्के का वर्चुअल अनावरण करेंगे। आप सभी को इस महान और ऐतिहासिक पल का साक्षी बनना है।

क्या है सिक्के में
यशोधरा राजे सिंधिया ने जो सिक्का अपने सोशल मीडिया में शेयर किया है उसमें। सिक्के के एक तरफ राजमाता विजयाराजे सिंधिया का फोटो है जिस पर ऊपर हिंदी व नीचे अंग्रेजी में विजया राजे सिंधिया की जन्म शताब्दी के साथ उनकी जन्म का साल 1919 व जन्म शताब्दी वषर्ष 2019 अंकित है। दूसरी तरफ अशोक स्तंभ के दोनों तरफ हिंदी और अंग्रेजी में भारत लिखा है व अशोक स्तंभ के नीचे अंकों में रुपये 100 रूपये लिखा हुआ है।

मन की मात में पीएम ने सुनाया था किस्सा
मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने राजमाता का एक किस्सा सुनाया था। उन्होंने कहा था कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया वात्सल्य की प्रतिमूर्ति थीं। 12 अक्टूबर को विजयाराजे सिंधिया का जन्म शताब्दी वर्ष के समारोह का समापन होगा। पीएम मोदी ने किस्सा बताते हुए कहा था- डॉ मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में हम कन्याकुमारी से कश्मीर तक एकता यात्रा लेकर निकले थे। कड़ाके के ठंड के दिन थे और हमारी यात्रा करीब बारह-एक बजे, मध्य प्रदेश के शिवपुरी पहुंचे। रात में करीब 2 बजे मैं सोने की तैयारी कर रहा था, तो किसी ने दरवाजा खटखटाया। मैंने दरवाजा खोला तो राजमाता सामने खड़ी थीं।

कड़ाके की ठंड में राजमाता को देखकर के मैं हैरान था। मैंने मां को प्रणाम किया, मैंने कहा, मां आधी रात में, उन्होंने कहा कि नहीं बेटा आप ऐसा करो गर्म दूध पीकर सो जाइए। हल्दी वाला दूध वो खुद लेकर आईं थी। दूसरे दिन मैंने देखा कि वो सिर्फ मुझे ही नहीं हमारी यात्रा की व्यवस्था में जो 30-40 लोग थे, उसमें ड्राइवर भी थे और भी कार्यकर्ता थे, हर एक के कमरे में जाकर के खुद ने रात को 2 बजे सबको दूध पिलाया। मां का प्यार क्या होता है, वात्सल्य क्या होता है, उस घटना को मैं कभी नहीं भूल सकता हूं। यह हमारा सौभाग्य है कि ऐसे महान विभूतियों ने हमारी धरती को, अपने त्याग और तपस्या से सींचा है।